महिला के प्राइवेट पार्ट में मिर्च डलवाते थे अफसर, गर्म पानी से झुलसाते थे तन

राजधानी दिल्ली में एक आयोग की टीम ने आरोप लगाया है कि शेल्टर होम में अफसरों के सामने एक महिला के प्राइवेट पार्ट में मिर्ची डाली, पीटा और ऊसके ऊपर गर्म पानी डाला. महिला आयोग का कहना है कि ऐसे अत्याचार शेल्टर होम में आम हैं. राजधानी के कुतुब विहार इलाके में चलने वाले प्राइवेट शेल्टर होम में 50 साल की इस महिला ने सेक्सुअल हैरसमेंट और छेड़छाड़ किए जाने का खुलासा किया है.

दिल्ली महिला आयोग की टीम 23 जनवरी को इस शेल्टर होम के दौरे पर पहुंची थी, जहां एक महिला ने टीम को यह शिकायत दी कि शेल्टर होम के अधिकारी उनके साथ सेक्सुअल हैरसमेंट करते हैं और उन्हें बुरी तरह से परेशान करते हैं. फिलहाल महिला को दूसरे शेल्टर होम भेज दिया गया है. इस मामले में एफआईआर भी दर्ज कर ली गई है.

महिला की शिकायत पर टीम ने तुरंत दिल्ली पुलिस को खबर दी. पुलिस मौके पर पहुंची और महिला को थाने ले जाया गया. इसके बाद छावला थाने में आईपीसी की धारा 354/354B/323/34 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया. महिला को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया और अब उन्हें दूसरे शेल्टर होम में रखा गया है. दिल्ली महिला आयोग की चीफ स्वाति जय हिंद का कहना है, जो भी व्यक्ति शेल्टर होम में रहने वालों पर अत्याचार कर रहे हैं, उन्हें सख्त सजा दी जानी चाहिए और ऐसे शेल्टर होम के लाइसेंस रद्द होने चाहिए.

दिल्ली महिला आयोग की टीम ने दौरे के दौरान शेल्टर होम में कई गड़बड़ियां पाईं. इस दौरान 50 साल की एक महिला ने टीम को बताया कि होम के पुरुष अधिकारियों के सामने उनके प्राइवेट पार्ट्स में मिर्च पाउडर और नमक डाला गया. उन्होंने बताया कि होम के अधिकारी उन्हें पीटते हैं और उनके ऊपर गर्म पानी डालते हैं. इस महिला ने पांच लोगों के खिलाफ आरोप लगाए हैं, जिनमें से दो पति-पत्नी हैं|

दिल्ली महिला आयोग की मेंबर प्रोमिला गुप्ता की अगुवाई में टीम शेल्टर होम 23 जनवरी को गई थी. टीम ने यह भी पाया कि रिकॉर्ड बुक में दर्ज संख्या से ज्यादा महिलाएं और लड़कियां शेल्टर होम में रह रही थीं. यह भी देखा गया कि शेल्टर होम के अधिकारियों का काम न करने और उनका आदेश न मानने पर महिलाओं को कठोर दंड दिया जाता था. आयोग का कहना है कि पहले भी आयोग ने यहां से चार लड़कियों को छुड़वाया था और इसका लाइसेंस रद्द करने की सिफारिश की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *