सीआईए की रिपोर्ट में खुलासा, बजरंग दल और VHP हिंदू उग्रवादी संगठन

अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए ने विश्व हिंदू परिषद (VHP) और बजरंग दल को धार्मिक उग्रवादी संगठन बताया है साथ ही आरएसएस पर भी कड़ी टिप्पणी की है. सीआईए नो उसे अतिराष्ट्रवादी संगठन बताया है. आपको बता दें कि राष्ट्रवादी होना अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में प्रशंसनीय नहीं बल्कि निंदनीय बात होती है. ये एक प्रकार का कट्टरपंथ है जो सरकारें निभाती हैं.

सीआईए द्वारा जारी वर्ल्ड फैक्ट बुक में विहिप और बजरंग दल को दो और कैटेगरी में रखा गया है. उन्हें ‘राजनीतिक दवाब समूह’ भी बताया गया है

इस सूची में कश्मीर के संगठन ऑल पार्टीज हुर्रियत कॉन्फ्रेंस को एक अलगाववादी समूह बताया गया है. इसी तरह जमीयत उलेमा-ए-हिंद को एक ‘धार्मिक संगठन’ बताया है.

वर्ल्ड फैक्टबुक अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए का सालाना पब्लिकेशन होता है. इसमें दुनिया के 267 देशों-क्षेत्रों के इतिहास, लोगों, सरकार, अर्थव्यवस्था, ऊर्जा, भूगोल, संचार, यातायात, सेना और कई अन्य मसलों पर जानकारी दी जाती है.

खबरों की मानें तो दोनों हिंदूवादी संगठन इस रिपोर्ट से नाखुश हैं और इस टैग को हटाने के लिए कानूनी रास्तों को अपनाने का विचार कर रहे हैं. ‘द प्रिंट’ से बात करते हुए बजरंग दल के राष्ट्रीय संयोजक मनोज वर्मा ने कहा कि ‘यह कुछ दिनों पहले हमारी जानकारी में आया था. हम विशेषज्ञों से परामर्श कर रहे हैं और इसका सामना करने के लिए कानूनी सलाह चाहते हैं.’