क्या इस एक्ट्रेस के चक्कर में गई भैयू जी की जान ?

क्या इस एक्ट्रेस के चक्कर में गई भैयू जी की जान ?

इन्दौर :  क्या भैयू जी महाराज की मौत के पीछे उनका मल्लिका राजपूत नाम की एक्ट्रेस के साथ विवाद बना, दर असल भैयू जी मल्लिका को लेकर बहुत परेशान थे. मल्लिका बीजेपी के साथ भी जुड़ी थी. हाल ही में ग्वालियर की आयुषी शर्मा के साथ दूसरी शादी हुई थी. इस विवाह में आयुषी की सुंदरता के कई चर्चे थे लेकिन शायद आयुषी का सौदर्य भैयूजी को बांध कर नहीं रख सका. कुछ ही समय में उनका नाम मल्लिका राजपूत के साथ जुड़ गया.

मोहजाल में फंसाने का आरोप

दर असल भैयू जी शादी के दिन ही विवाद में फंस गए थे. मल्लिका राजपूत नाम की एक्ट्रेस ने उन पर मोहजाल में बांधकर रखने का आरोप लगाया था. मल्लिका ने तो यहां तक कह दिया था कि भय्यू उन्हें दूसरे नंबरों से छुप छुपकर फोन लगाता है और परेशान करता है. वहीं भय्यू महाराज ने पीए तुषार पाटिल ने जवाबी हमला किया, उसने कहा कि मल्लिका राजपूत एक फ्रॉड महिला है और वो महाराज को बदनाम करने की साजिश का एक हिस्सा है.

आखिर कौन है ये महिला

मल्लिका राजपूत ने अपनी फेसबुक प्रोफाइल में खुद को एक्ट्रेस, सिंगर और स्क्रीन रायटर बताया है. हालांकि वे भाजपा से भी जुड़ी हैं और खुद को एक लेखक भी बताती हैं.

मल्लिका ने लगाए कई गंभीर आरोप

मल्लिका राजपूत ने फेसबुक पर एक मैसेज लिखा है – भय्यू महाराज धोखेबाज, चालबाज हैं, मैंने पूरी मेहनत करके इन पर एक किताब सार लिखी है जिसकी 950 प्रतियां दो ढाई साल से इसके पास हंै. इसने मुझे मोह जाल में रखा और अब अलग अलग नंबर से चोरी से बात करता है. प्लीज इसे सब शेयर करें. भय्यू जी महाराज पर विश्वास न करें. मेरी किताब ना वापस करने के लिए इसे कोर्ट से नोटिस भेजूंगी इसका लैटर भी मेरे पास है. ये झूठ का पुतला है और कुछ नहीं.

बहुत ऊपर तक थी पहुंच

भय्यू महाराज की हर क्षेत्र में पहुंच मानी जाती है. फिल्म, राजनीति हो या फिर समाजसेवा. वे हर जगह सक्रिय रहते थे. उनके आश्रम में वीआईपी संत आते थे. देश के कई बड़े राजनेता, अभिनेता, गायक और उद्योगपति उनके आश्रम आ चुके हैं. इनमें पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, पीएम नरेंद्र मोदी, शिवसेना के उद्धव ठाकरे और मनसे के राज ठाकरे, लता मंगेशकर, आशा भोंसले, अनुराधा पौडवाल, फिल्म एक्टर मिलिंद गुणाजी भी शामिल हैं.

मीडिया की नजर में ऐसे आए भय्यू महाराज

भय्यू महाराज तब मीडिया की नजरों में आए जब अन्ना हजारे के अनशन को तुड़वाने के लिए तत्कालीन केंद्र सरकार ने उन्हें अपना दूत बनाकर भेजा था. बाद में अन्ना ने उनके हाथ से जूस पीकर अनशन तोड़ा था. वहीं पीएम बनने के पहले गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में मोदी सद्भावना उपवास पर बैठे थे. तब उपवास खुलवाने के लिए उन्होंने भय्यू महाराज को आमंत्रित किया था. भय्यू महाराज के सम्बन्ध देश की दिग्गज हस्तियों से है.

 

Leave a Reply