जानिए कौन है मुकेश अंबानी के सबसे भरोसे के लोग, यहां भी चलता है भाई भतीजा बाद ?

फिल्म इंडस्ट्री में टेलेंट के दम पर लोगों को भूमिकाएं नहीं मिलती बल्कि लॉबी हैं और लॉबी के आधार पर लोगों को रोल मिलता है. राजनीति में राहुल गांधी को सोनिया का बेटा होने के कारण, सचिन पायलट को राजेश पायलट का बेटा होने के कारण और ज्योतिरादित्य को माधवराव सिंधिया का बेटा होने और विजयाराजे सिंधिया का पोता होने के कारण अहमियत मिलती है.

लेकिन व्यापार का क्या. व्यापार में भी भाई भतीजाबाद चलता है और मुकेश अंबानी जैसे व्यापारी बड़े स्तर पर भाई भतीजाबाद चलाते हैं. आपको बताते हैं कि मुकेश के सबसे खास समझे जाने वाले लोग कौन हैं. और वो मुकेश के रिश्ते में क्या लगते हैं.

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी कारोबारी दुनिया में अपने सटीक फैसलों के लिए जाने जाते हैं. पेट्रोकेमिकल्स से लेकर टेलिकॉम और रिटेल तक के बिजनेस में छाने वाले मुकेश अंबानी की सफलता का एक राज यह भी है कि उनकी टीम बेहद मजबूत है. मनोज मोदी से लेकर हितल और निखिल मेसवानी तक कई ऐसे चेहरे हैं, जो भले ही चर्चा से परे रहते हैं, लेकिन चुपचाप ही रिलायंस के लिए बड़े कामों को अंजाम देते हैं.

ये भी पढ़ें :  आ रही है जियो की TV सेवा, 10 शहरों से शुरुआत, क्या आपका शहर लिस्ट में है ?

खासतौर पर निखिल और हितल मेसवानी मुकेश अंबानी के दाएं हाथ माने जाते हैं. दोनों भाई मुकेश अंबानी की बुआ त्रिलोचनाबेन के पोते हैं. निखिल मेसवानी के पिता रसिकलाल मेसवानी को मुकेश अंबानी अपने पहले बॉस का दर्जा देते रहे हैं. आइए जानते हैं, रिलायंस के लिए दोनों करते हैं क्या काम…

पेशे से केमिकल इंजीनियर रहे निखिल मेसवानी 1986 में रिलायंस में शामिल हुए थे. रिलायंस के संस्थापक निदेशकों में से एक निखिल मेसवानी ने 1997 से 2005 के बीच में उन्होंने कंपनी के रिफाइनरी व्यवसाय को संभाला. इसके अलावा वह कॉरपोरेट अफेयर्स और ग्रुप टैक्सेशन जैसे कई अन्य कॉरपोरेट जिम्मेदारियों को भी देखते थे.

रिलायंस इंडस्ट्रीज की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक रिलायंस को पेट्रोकेमिकल्स क्षेत्र में एक वैश्विक लीडर बनाने में निखिल मेसवानी का अहम योगदान रहा है. 1 जुलाई, 1988 से वह कंपनी के बोर्ड में पूर्णकालिक निदेशक तौर पर शामिल रहे हैं, जिन्हें एग्जीक्युटिव डायरेक्टर की जिम्मेदारी भी दी गई है.

निखिल के अलावा उनके छोटे भाई हितल मेसवानी भी ग्रुप में सक्रिय हैं और पेट्रोलियम रिफाइनिंग एवं मार्केटिंग संबंधी बिजनेस संभालते हैं. हजीरा के वर्ल्ड क्लास पेट्रोकेमिकल कॉम्प्लेक्स और रिलायंस जामनगर रिफायनरी कॉम्प्लेक्स के कामकाज को भी वह देखते रहे हैं.

ये भी पढ़ें :  GST: व्यापारियों को अखबार में छापनी होगी प्राइज लिस्ट, जनता वहीं से जानेगी रेट

वह 1990 में रिलायंस इंजस्ट्रीज समूह से जुड़े थे, उनके पिता रसिकलाल मेसवानी कंपनी के संस्थापक सदस्यों में से थे. हितल मेसवानी अगस्त 1995 से रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. रिलायंस इंडस्ट्रीज जॉइन करने से पहले उन्होंने अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया से मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में ग्रेजुएशन किया था. इसके अलावा यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया से केमिकल इंजीनियरिंग में बीएससी भी की है.

क्या है मुकेश अंबानी से रिश्तेदारी का कनेक्शन: गीता पीरामल की पुस्तक ‘Business Maharajas’ के मुताबिक मुकेश अंबानी की बुआ यानी धीरूभाई अंबानी की बहन त्रिलोचना बेन के बेटे थे रसिकलाल मेसवानी. वह रिलायंस के संस्थापक सदस्यों में से एक थे और जब कंपनी आगे बढ़ी तो उसमें उनके दोनों बेटे निखिल और हितल भी जुड़ गए. रसिकलाल मेसवानी मुकेश अंबानी के भाई लगते थे, इस लिहाज से देखें तो निखिल और हितल मेसवानी का मुकेश अंबानी से चाचा-भतीजे का रिश्ता हुआ.