चुनाव आयोग ने जैसे अमित शाह से शैड्यूल बनवाया हो, सबकुछ मोदी और शाह के फायदे का

शुरुआत पत्रकार वैंकटेश सिंह की टिप्पणी से करते हैं .

वैकटेश लिखते हैं – आचार संहिता लगने से डेढ़ घंटा पहले राजस्थान सरकार ने किसानों के लिए मुफ्त बिजली का ऐलान किया

पत्रकार गिरिजेश वशिष्ठ लिखते हैं– कब आचार संहिता लागू होनी है.ये पहले से ही सरकार को पता चल जाए तो चुनाव आयोग को निष्पक्ष कैसे कहेंगे? #petrol #diesel

बाद में पेट्रोल और डीजल के हैश टैग बताते हैं कि कैसे चुनाव से ऐन पहले पेट्रोल डीजल के दाम कम किए गए.

इतना ही नहीं खुद कांग्रेस पार्टी ने आरोप  गया कि चुनाव आयोग ने पीएम मोदी भाषण के लिए चुनावों का एलान तीन घंटे टाल दिया.

वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ लिखते हैं कि इसके बावजूद प्रेस कांफ्रेंस में चुनाव आयोग से किसी ने सवाल तक नहीं किया.

सुबह के अखबारों में भी वीवीपैट को लेकर चुनाव आयोग ने बड़े बड़े विज्ञापन दे दिए थे. मकसद बताने की ज़ररूत नहीं है.

चुनाव आयोग पर निष्पक्ष न होने के आरोपों के बीच आज पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का एलान कर दिया गया.

छत्तीसगढ़ में 12 नवंबर और 20 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। मध्यप्रदेश और मिजोरम में 28 नवंबर को वोटिंग होगी। वहीं, राजस्थान और तेलंगाना में 7 दिसंबर को मतदान होगा। सभी राज्यों के नतीजों का ऐलान 11 दिसंबर को किया जाएगा। अभी मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में भाजपा की सरकार है। मिजोरम में कांग्रेस की सरकार है। तेलंगाना में टीआरएस सत्ता में थी। वहां विधानसभा भंग हो चुकी है।

दूसरे शब्दों में कहें तो फ्री एन्ड फेयर यानी स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव का दावा करने वाली पार्टी ने ये गुजाइश छोड़ दी है कि जब मध्यप्रदेश और मिजोरम में वोटिंग हो रही होगी तो राजस्थान में चुनाव प्रचार पर रोक नहीं रहेगी और मोदी जी यहां रैलियां करेंग और प्रचार पर रोक के बावजूद इनका प्रसारण धड़ल्ले से राजस्थान और तेलंगाना में होगा. खैर तारीखों पर आते हैं.

मध्यप्रदेश और मिजोरम

नोटिफिकेशन : 2 नवंबर

नॉमिनेशन की आखिरी तारीख : 9 नवंबर

नॉमिनेशन की स्क्रूटनी : 12 नवंबर

नॉमिनेशन वापसी की आखिरी तारीख : 14 नवंबर

वोटिंग : 28 नवंबर

राजस्थान और तेलंगाना

नोटिफिकेशन : 12 नवंबर

नॉमिनेशन की आखिरी तारीख : 19 नवंबर

नॉमिनेशन की स्क्रूटनी : 20 नवंबर

नॉमिनेशन वापसी की आखिरी तारीख : 22 नवंबर

वोटिंग : 7 दिसंबर

छत्तीसगढ़ का पहला चरण (इसमें नक्सल प्रभावित इलाकों में मतदान होगा)

नोटिफिकेशन : 16 अक्टूबर

नॉमिनेशन की आखिरी तारीख : 23 अक्टूबर

नॉमिनेशन की स्क्रूटनी : 24 अक्टूबर

नॉमिनेशन वापसी की आखिरी तारीख : 26 अक्टूबर

वोटिंग : 12 नवंबर

कुल सीटें : 18

छत्तीसगढ़ का दूसरा चरण

कुल सीटें : 72

नोटिफिकेशन : 26 अक्टूबर

नॉमिनेशन की आखिरी तारीख : 2 नवंबर

नॉमिनेशन की स्क्रूटनी : 3 नवंबर

नॉमिनेशन वापसी की आखिरी तारीख : 5 नवंबर

वोटिंग : 20 नवंबर

किस राज्य में कब खत्म हो रहा विधानसभा का कार्यकाल

छत्तीसगढ़ : 5 जनवरी 2019

मध्यप्रदेश : 7 जनवरी 2019

राजस्थान : 20 जनवरी 2019

मिजोरम : 15 दिसंबर 2018

हलफनामे के नियमों में बदलाव :

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के हलफनामे के नियमों में भी सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के मुताबिक बदलाव किया गया है। उम्मीदवारों को उन विज्ञापनों के बारे में बताना होगा जो उन्होंने अपने खिलाफ दर्ज आपराधिक मुकदमों के संदर्भ में मीडिया में प्रकाशित कराए हैं।

सत्ता के दावेदार

मध्यप्रदेश : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया

छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री रमन सिंह, अजीत जोगी, भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव

राजस्थान : मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया, अशोक गेहलोत, सचिन पायलट

Leave a Reply

Your email address will not be published.