दिल्ली के दंगों पर संयुक्त राष्ट्र की कड़ी नज़र, पुलिस पर की ये टिप्पणी

दिल्ली के दंगों (delhi riots) पर संयुक्त राष्ट्र संघ मानवाधिकार आयोग (UNHCR) भी कड़ी नजर बनाए हुए है इतना ही नहीं बाकायदा संयुक्त राष्ट्र ने मामले में पुलिस की तरफ से निष्क्रियता बरतने पर आपत्ति भी दर्ज कराई गई है, इतना ही नहीं दुनिया की इस सबसे प्रतिष्ठित संस्था ने सीएए के विरोध में चल रहे आंदोलनों को शांतिपूर्ण बताया है

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की उच्चायुक्त मिशेल बैश्लेट ने मुस्लिमों पर हमले के दौरान ‘पुलिस की निष्क्रियता’ और ‘गंभीर चिंता’ जाहिर की है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारतीय राजनेताओं को ऐसी हिंसा को रोकना चाहिए. सीएए पर बाचेलेट ने कहा कि अलग-अलग समुदाय से ताल्लुक रखने वाले भारतीयों ने बड़ी संख्या में सीएए पर शांतिपूर्ण तरीके से अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं.

उन्होंने कहा ‘मैं एक अन्य समुदाय द्वारा मुस्लिमों पर हुए हमलों और शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने वाले लोगों पर सुरक्षाबलों की कार्रवाई से चिंतित हूं. यह अब सांप्रदायिक हमलों में तब्दील हो गया है जिसमें अबतक 34 लोगों की मौत हो गई है.

मैं सभी नेताओं से अपील करना चाहती हूं कि वे हिंसा को रोकें. स्थिति अब काफी गंभीर हो गई है और रविवार से 34 लोग मारे जा चुके हैं.’ जिनेवा में विश्वभर में मानवाधिकार घटनाक्रमों पर चल रहे संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 43वें सत्र में उन्होंने यह बातें कही.

वहीं संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरस दिल्ली पर नजर बनाए हुए हैं. गुटेरस के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने अपनी डेली ब्रीफिंग में एक सवाल के जवाब में कहा कि ‘लोगों को शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने की अनुमति दी जानी चाहिए और सुरक्षा बलों को संयम बरतना चाहिए. यह महासचिव का हमेशा से रुख रहा है. हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं.’