ये है सुशांत सिंह के पिता की दूसरी शादी का सच, संजय राउत ने लगाया था आरोप

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत (Sushant singh rajput news) को लेकर शिवसेना (Shivsena) के मुखपत्र सामना (Samna) में पार्टी के सांसद संजय राउत ( reality of Sanjay raut statement) ने लिखे लेख में आरोप लगाया है कि सुशांत के पिता ने दूसरी शादी की थी. जिसे सुशांत ने स्वीकार नहीं किया था.

राउत के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर गुस्सा फैल गया और लोगों ने सजय राउत की बयान के लिए कड़ी निंदा की. ज्यादा तर यूजर्स ने सख्त मैसेज भेजे और संजय राउत से माफी की मांग की लेकिन सुशांत के पिता की शादी का सच जानना बनता था.

देश के जाने माने अखबार एनबीटी ने सुशांत के पिता की दो शादियों वाली बात की जांच की. जांच के लिए अखबार ने  सुशांत के मामा आर सी सिंह से बात की आरसी सिंह ने अखबार से कहा-  “सुशांत के पिता ने दो शादियां नहीं की हैं. संजय राउत गलत बोल रहे हैं.”

ये भी पढ़ें :  बिरादरी के बाहर प्यार करने की सजा़ रेप, सात पंचों ने किया बलात्कार

सुशांत के मामा आर सी सिंह ने कहा- “संजय राउत ने उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे के इशारे पर गलत बयान दिया है. संजय राउत इस तरह की बात बोलकर उनकी छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं. ऐसी बात बोलकर किसी की छवि खराब करना क्या अच्छी बात है.” उन्होंने कहा कि बिहार में जो रहते हैं, वो सभी जानते हैं कि सुशांत के पिता ने एक ही विवाह किया था.

दरअसल संजय राउत ने सामना में लिखे लेख में आरोप लगाया कि सुशांत का परिवार मतलब पिता पटना में रहते हैं. उनके पिता से उसके संबंध अच्छे नहीं थे. पिता ने दूसरी शादी कर ली थी जिस सुशांत ने स्वीकार नहीं किया था. पिता से उसका भावनात्मक संबंध शेष नहीं बचा था.

ये भी पढ़ें :  पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को कांग्रेस ने दी बड़ी ज़िम्मेदारी, मोदी के लिए बनेंगे सिरदर्द ?

उसी पिता को बरगलाकर बिहार में एक एफआईआर दर्ज कराई गई व मुंबई में घटे गुनाह की जांच करने के लिए बिहार की पुलिस मुंबई आई. संजय राउत ने कहा कि मुंबई पुलिस पर आरोप लगाकर बिहार सरकार ने केंद्र से सीबीआई जांच की मांग की. 24 घंटे के अंदर यह मांग मान भी ली गई.

यह राज्य की स्वायत्ता पर सीधा हमला है. सुशांत का मामला कुछ और समय मुंबई पुलिस के हाथ में रहता तो आसमान नहीं टूट जाता लेकिन यह राजनीतिक निवेश और दबाव की राजनीति है. उन्होंने यहां तक कहा कि सुशांत प्रकरण की ‘पटकथा’ पहले ही लिखी गई थी.