मोदी सरकार में आतंकी हमलों की बाढ़ आई , आंकड़े देखकर आप हिल जाएंगे

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक संदेश फैलाया गया कि जब से केन्द्र में मोदी सरकार आई है तब से एक भी आतंकी हमला नहीं हुआ. लेकिन पुलवामा कांड के बाद जो हालत सामने आए हैं वो आंखें खोलने वाले हैं. पीएम मोदी के आने के बाद के हालात कोई बहुत बदले नहीं हैं बल्कि पिछले पांच साल में आतंकवादी हमले 176 फीसदी बढ़ गए हैं.

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार ये पुलवामा अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला है. हालांकि बस्तर में भी सीआरपीएफ के 72 जवान मारे गए थे लेकिन वो नक्सल हमला था.  इससे पहले जब 2016 में उरी में आतंकी हमला हुआ था, तो 17 जवान मारे गए थे.

गृह मंत्रालय के आंकड़ों को खंगालें तो पता चलता है कि पिछले 5 सालों में आतंकी हमले 176% बढ़ गए हैं, जिसकी वजह से आतंकियों के साथ-साथ नागरिक और सुरक्षा बलों के जवानों की मौत की संख्या भी बढ़ी है. इन आतंकी हमलों में सिर्फ शहीद होने वाले सुरक्षा बलों की संख्या में ही 93% की बढ़ोत्तरी हुई है.

ये भी पढ़ें :  अचानक बाहर आया मोदी का मुस्लिम प्रेम, गाये देशभक्ति के गीत

5 साल यानी 1825 दिन. इस दौरान कुल 1708 आतंकी हमले हुए. यानी सिर्फ 117 दिनों को छोड़ दें तो औसतन रोज एक आतंकी हमला हुआ है.

पिछले 5 सालों में इन हमलों में 138 नागरिक और 339 सुरक्षा बलों के जवान मारे गए हैं. आइए एक नजर डालते हैं गृह मंत्रालय के आंकड़ों पर समझते हैं कि आतंक के लिहाज से पिछले 5 साल कितने भयावह रहे हैं.

176 फीसदी बढ़ गए आतंकी हमले

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार सिर्फ 2014 में ही जम्मू कश्मीर में 222 आतंकी हमले हुए हैं. इसके अलगे साल 2015 में 208 आतंकी हमले हुए. पिछले 5 सालों में ये पहली बार था, जब आतंकी हमलों में मामूली कमी आई थी, लेकिन 2016 से लेकर 2018 तक आतंकी हमले तेजी से बढ़े. 2016 में ये आतंकी हमले 54.8 फीसदी बढ़ कर 0000 हो गए. 2017 में भी आतंकी हमलों में मामूली बढ़त हुई और ये हमले 6 फीसदी बढ़कर 342 पर जा पहुंचे. सबसे अधिक आतंकी हमलों की घटनाएं 2018 में हुईं, जब इनमें 79.53 फीसदी की बढ़त हुई और कुल हमलों की संख्या 614 पर जा पहुंची. पिछले 5 सालों में आतंकी हमले 176% बढ़ गए हैं.

ये भी पढ़ें :  मोदी पर फिल्म की शूटिंग के लिए फूंक दी गई ट्रेन की बोगी, रेल्वे ने दी इजाज़त

5 साल (1825 दिन) में 1708 मौतें

इन 5 सालों में नागरिकों की मौतों की संख्या 35.71 फीसदी बढ़ी, जबकि शहीद होने वाले जवानों की संख्या में 93 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो गई.

– 2014 में जम्मू-कश्मीर में हुए आतंकी हमलों में 47 जवान शहीद हुए थे, जबकि 28 नागरिकों की भी मौत हो गई. वहीं दूसरी ओर, सुरक्षा बलों के हाथों 110 आतंकी भी मारे गए.

– 2015 में हुए आतंकी हमलों में 39 जवान शहीद हो गए और 17 नागरिकों ने अपनी जान गंवाई. इस साल सबसे कम 108 आतंकी मारे गए थे. हालांकि, इस साल आतंकी हमलों की घटनाएं भी पिछले 5 सालों में सबसे कम रहीं.

– 2016 में आतंकी हमले और अधिक बढ़े, जिसमें 82 जवान शहीद हुए और 15 नागरिक भी मारे गए. इसी साल सुरक्षा बलों ने 150 आतंकियों को भी मार गिराया.

ये भी पढ़ें :  'आप' ने जारी किया वीडियो- केजरीवाल को पैसे कमाने के लिए टिकट बेचने की ज़रूरत नहीं

– 2017 में हुए आंतकी हमलों में 80 जवानों के साथ-साथ 40 नागरिक भी मारे गए. इसके अलावा 213 आतकियों को भी मौत के घाट उतारा गया.

– 2018 में आतंकी हमलों की सबसे अधिक घटनाएं हुईं, जिनमें 91 सैनिक मारे गए और 38 नागरिकों की जान चली गई. इस साल सुरक्षा बलों ने आतंकियों से लोहा लेते हुए 257 आतंकवादियों को ढेर किया.

अगर सैनिक, नागरिक और आतंकियों की मौतों को एक साथ देखा जाए तो इन 5 सालों में आतंकवाद ने कुल 1310 लोगों की जान ले ली. इसमें 138 नागरकि, 339 सुरक्षा बल के जवान और 838 आतंकी थे. गृह मंत्रालय के ये आंकड़े पिछले 5 सालों की तस्वीर एकदम साफ कर रहे हैं. इन आंकड़ों से ये साफ होता है कि इस दौरान आतंकी घटनाओं पर लगाम लगना तो दूर रहा, उल्टा ये घटनाएं बढ़ती ही चली गईं और 2018 आते-आते इनमें 176 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो गई. 1999 का करगिल युद्ध तो आपको याद ही होगा, उसमें 527 जवान शहीद हुए थे. वहीं पिछले 5 सालों में भारतीय सेना के जवान और नागरिकों के मरने की संख्या 477 है. अब सोचिए आंखों देखा भी झूठ साबित हो जाता है कभी कभी.

Spread the love

Leave a Reply