राजधानी दिल्ली में बेरोज़गारी से तंग आकर युवक ने जान दी, सुसाइड नोट में मोदी सरकार का सच

पूर्वी दिल्ली के गीता कॉलोनी इलाके में सुभाष नाम के आदमी ने पार्क के अंदर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. सुभाष बेरोजगारी की वजह से परेशान था. और कई दिनों से नौकरी के लिए भागदौड़ कर रहा था. कल उसने गीता कॉलोनी के सत्संग पार्क में खुद को फांसी लगा ली. उसने एक सुसाइड नोट भी लिखाहै जिसमें सुसाइड का कारण है.

बेरोजगारी से तंग आकर उसने यह कदम उठाया है फिलहाल पुलिस ने लाश को कब्जे में लेकर जांच में जुट गई है उधर सुभाष के परिवार का कहना है कुछ दिनों से परेशान चल रहा था और नौकरियों की तलाश कर रहा था मगर उसको नौकरी ना मिलने से उसने यह कदम उठाया है घरवालों का रो रो कर बुरा हाल है.

पूर्वी दिल्ली के गीता कॉलोनी इलाके में सत्संग पार्क के अंदर सुभाष नाम के आदमी ने बेरोजगारी की तंगी से खुद को फांसी के फंदे से आत्महत्या कर लिया बताया जा रहा है कुछ दिनों से नौकरी की तलाश में दर-दर भटक रहा था मगर उसको नौकरी कहीं नहीं मिली और उसके बाद आज सुबह करीब 7:00 बजे उसने सत्संग पार्क के अंदर फांसी के फंदे पर लटक कर आत्महत्या कर ली सुसाइड नोट में यह लिखा है कि वह खुद अपनी मर्जी से खुदकुशी कर रहा है.

इस सुसाइड नोट में देश के हालात का सच है जिसमें बेरोजगारी से तंग आकर लोग जान दे रहे हैं.

इससे पहले रांची के धुर्वा थाना क्षेत्र के आदर्श नगर में शानिवार को एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मृतक का नाम राहुल कुमार है और वह आदर्श नगर के मकान नंबर-91 में परिवार के साथ रहता था. सुबह जब राहुल कुमार देर तक कमरे से सोकर नहीं निकला तो परिजनों ने आवाज लगाई. काफी आवाज देने के बाद भी कमरे का दरवाजा नहीं खुला. इसके बाद घर के लोगों को अनहोनी की आशंका हुई जिसके बाद पड़ोसियों को घटना की जानकारी दी गई.

पड़ोसी जब राहुल के घर पहुंचे तो उन्होंने दरवाजा तोड़ा. अंदर जाने पर राहुल की लाश फंदे से लटकती पाई गई. इसके बाद लोगों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी. सूचना मिलते ही धुर्वा पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेज दिया. फिलहाल, आत्महत्या के कारणों के बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.