नीरव मोदी मामले में वित्त मंत्री जेटली पर गंभीर आरोप, पार्टी के सांसद ने उठाई आवाज़

नीरव मोदी मामले में अब बीजेपी के अंदर से ही गंभीर आरोप सामने आने लगे हैं. इस बार सीधे आरोप वित्तमंत्री चौकीदार अरुण जेटली पर लगा है. आरोप लगाने वाले कोई और नहीं भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी हैं. उन्होंने पंजाब नेशनल बैंक से साथ करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी मामले में आरोपी व भगोड़े हीरा करोबारी के प्रत्यर्पण को लेकर वित्त मंत्रालय तथा अरुण जेटली पर निशाना साधा है.

स्वामी ने कहा, “मोदी सरकार और प्रधानमंत्री कार्यालय ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण को लेकर काफी मेहनत किया लेकिन वित्त मंत्रालय की वजह से वो कामयाब नहीं हुए और देरी हुई. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा कि यहां तक की अरुण जेटली ने सोने का बिस्किट भी लिया सोने का बिस्किट भी लिया. यदि वित्त मंत्रालय सचेत रहता तो नीरव मोदी कभी देश छोड़कर नहीं जा सकता था. हमें इसके लिए वित्त मंत्रालय में जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई करनी चाहिए.”

बता दें कि सोमवार को लंदन की एक अदालत ने दो अरब डॉलर के पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी के खिलाफ गिरफ्तारी वॉरंट जारी किया है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि धनशोधन के एक मामले में नीरव को प्रर्त्यिपत करने के प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अनुरोध के जवाब में उसके खिलाफ गिरफ्तारी वॉरंट जारी किया गया है.

अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी को हाल में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत द्वारा वॉरंट जारी किए जाने के बारे में सूचित किया गया था और नीरव मोदी को जल्द ही स्थानीय पुलिस (लंदन मेट्रोपॉलिटन पुलिस) द्वारा गिरफ्तार किया जा सकता है.

उन्होंने बताया कि वॉरंट कुछ दिन पहले जारी किया गया और बाद में ईडी को सूचित किया गया था. अधिकारियों ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद नीरव मोदी जमानत के लिए अदालत के समक्ष लाया जाएगा और उसके प्रत्यर्पण के लिए कानूनी कार्यवाही उसके बाद शुरू होगी.

लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने नीरव के खिलाफ एक प्रत्यर्पण वॉरंट जारी किया है, जिससे उसकी गिरफ्तारी लगभग तय है. मामले में शामिल लंदन स्थित सूत्रों ने यह जानकारी दी.


ब्रिटेन की अदालत और स्कॉटलैंड यार्ड ने कहा कि वे वॉरंट की पुष्टि या उससे इनकार तब तक नहीं कर सकते जब तक गिरफ्तारी हो न जाए और आरोपी को औपचारिक तौर पर आरोपित नहीं कर दिया जाए.

हालांकि, ताजा घटनाक्रम से वाकिफ अधिकारियों ने पुष्टि की कि पिछले हफ्ते एक वॉरंट जारी किया गया और भारत में अधिकारियों को सोमवार को इस बारे में बताया गया. मेट्रोपॉलिटन पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘‘हम गिरफ्तारी होने तक कोई टिप्पणी इसलिए नहीं करते क्योंकि कुछ भी स्थापित होने से पहले व्यक्ति को आरोपित किया जाना होता है.’’ वॉरंट जारी होने की खबरों के बाद अब नीरव के पास विकल्प है कि या तो वह किसी पुलिस थाने में सरेंडर कर दे या फिर वॉरंट को तामील कराने के लिए जिम्मेदार मेट्रोपॉलिटन पुलिस के अधिकारी उसे गिरफ्तार करेंगे.

अगर नीरव को गिरफ्तार किया जाता है तो उसे लंदन स्थित वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में पेश किया जाएगा और औपचारिक तौर पर उसे आरोपित किया जाएगा. इसके बाद वह जमानत की गुहार लगा सकता है. ब्रिटेन के एक अखबार में हाल में प्रकाशित एक खबर के अनुसार नीरव मोदी लंदन के वेस्ट एंड में 80 लाख पाउंड के आलीशान घर में रह रहा है और नए हीरा कारोबार में लगा है. अखबार की ओर से जारी एक वीडियो में नीरव को लंदन की सड़कों पर घूमते हुए दिखाया गया था.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.