बाढ़ रोकने के इस जुगाड़ पर योगी सरकार की जग हंसाई, मंत्री ने दिए थे निर्देश

खबर सब तक पहुंचाएं

यूपी की  BJP सरकार में जल संसाधन मंत्री महेंद्र सिंह ने बाढ़ रोकने के लिए सिंचाई विभाग को उन नदियों की नियमित पूजा करने के निर्देश दिए हैं, जहां जल स्तर बारिश के चलते हाल-फिलहाल में काफी बढ़ा है.

रविवार को सूबे में बाढ़ को लेकर ऐहतियाती कदम की समीक्षा से जुड़ी एक मीटिंग के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उन्होंने विभाग के फील्ड स्टाफ को संबोधित किया और यह निर्देश दिया. बैठक के बाद मंत्री के इस निर्देश से जुड़ा एक प्रेस रिलीज भी जारी किया गया.

मंत्री के प्रवक्ता ने अंग्रेजी अखबार Times of India को बताया, “मंत्री जी ने फील्ड स्टाफ से नदियों की पूजा करने और उन्हें फूल अर्पित करने के निर्देश दिए हैं. मंत्री ने स्टाफ से इसके अलावा फील्ड स्टाफ से यह भी कहा कि वह बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के फोटो-वीडियो भेजने के अलावा जमीनी स्थिति और किसी आपात स्थिति को लेकर सिक्योरिटी गार्ड्स की तैनाती के बारे में मुख्यालय को जानकारी दें.

ये भी पढ़ें :  बीजेपी शासित एक और राज्य में ऑक्सीजन की वजह से बच्चे मरे, 3 की मौत

दरअसल, पिछले हफ्ते सूबे में लगातार बारिश के कारण कई नदियों का जल स्तर काफी बढ़ गया था. इसी बीच, मौसम विभाग ने राज्य में भारी वर्षा की संभावना जताई थी. खासकर 10-12 जुलाई के बीच पूर्वी यूपी में, जिससे कई निचले इलाकों में बाढ़ और जलभराव की स्थिति की आशंका भी जताई गई थी.

ऐसा नदियों के आसपास रहने वाले ग्रामीण भी लंबे समय से करते आ रहे हैं. यह कोई नई परंपरा नहीं है. हिंदू, नदियों को देवी के तौर पर मानते हैं और उनकी पूजा करते हैं. बाढ़ का काबू करने के लिए भी फील्ड स्टाफ को भी ऐसा (ग्रामीणों/लोगों की तरह पूजा) ही करना चाहिए.”

ये भी पढ़ें :  बिग बी के सेहत ज्ञान पर भरोसा मत करना, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी ये सलाह

Central Water Commission ने अनुमान लगाते हुए कहा था कि घागरा नदी का जल स्तर बढ़ जाने के कारण बाराबंकी और फैजाबाद में बाढ़ सरीखी स्थिति पनप सकती है. बता दें कि नौ जुलाई को इस नदी का पानी 52.73 सेंटिमीटर के वॉर्निंग लेवल मार्क पर पहुंच गया था, जबकि कि पिछले साल करीब 100 लोगों की जान सिर्फ उत्तर प्रदेश में बाढ़ के कारण चली गई थी.


खबर सब तक पहुंचाएं