हमारी आजादी में धीरे धीरे आ रहा है बड़ा परिवर्तन, सरकार ने छीनी ये चीज़ें

इस वीडियो में पत्रकार गिरिजेश वशिष्ठ बता रहे हैं कि कैसे धीरे धीरे लोगों की आजादी पर सरकार कब्जा जमाती जा रही है . उनका धन, उनका रहनसहन, उनकी हर चीज शिकंजे में आ गई है.

Journalist girijesh vashistha explaining how freedom in findividuals and institutions is under threats in india

About Knocking News (नॉकिंग न्यूज़)
Girijesh Vashistha is a senior journalist; he has worked with India Today group, Zee Network, Dainik Bhaskar, Dainik Jagran and sahara samay like Prominent News organizations for 34 years at Editor Level

गिरिजेश वशिष्ठ वरिष्ठ पत्रकार हैं. वो इन्डिया टुडे ग्रुप, दिल्ली आजतक, ज़ी, दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण, सहारा समय समेत अनेक महत्वपूर्ण समाचार संस्थानों में संपादक के स्तर पर जिम्मेदारियां संभाल चुके हैं और पिछले 34 साल से लगातार सक्रिय हैं.

यहां आपको मिलेगा नॉकिंग न्यूज़ (Knocking News) LIVE राजनीति, बॉलीवुड, देश-विदेश हर तरह की ख़बरें, कोरोना वायरस अपडेट्स, corona conspiracy से जुड़े वीडियो के लिए देखिए सिर्फ नॉकिंग न्यूज़ (Knocking News) हर रोज दिलचस्प और गरमा-गरम वीडियो के लिए सब्सक्राइब कीजिए

For more videos, subscribe to our channel-
https://www.youtube.com/c/KNOCKINGNEWS

Another channel for Girijesh Vashistha Videos-
https://www.youtube.com/c/girijeshvashistha

Check out the KnockingNews website for more news: https://www.KnockingNews.com/

To stay updated, Follow KnockingNews here

Facebook: https://www.facebook.com/KnockingNews/
Twitter: https://twitter.com/KnockingNews
Instagram: https://www.instagram.com/KnockingNews/…
Telegram: https://t.me/KNLive

***For sponsordhip and advertisement related enquiries please contact ***
Email – knockingnews@gmail.com
-For donations and support you may pay by using UPI payments @ girijeshv@okicici
-For news information please mail on above address. mobile number will be shared only if required

2 Comments

  1. Sir,
    Your videos are extremely good.
    I like them very much.
    But of late you seem to be striking a compromising note. May be you want to avoid the wrath of people in power.
    Well it is for you to decide a stand.

    But do not ever deceive your inner soul just for survival

  2. Author

    हम जो जी में आता है बिंदास बोलते है. जो गलत लगता है वो नहीं बोलते. जिस प्लेटफॉर्म पर काम करें उसकी नीतियों को मानना भी एक कारण है लेकिन हमारा वीर रस की कविता पढ़कर हीरो बनने से ज्यादा अच्छा है कि लोग वो संदेश ले लें जो हम देना चाहते हैं. लोग समझ रहे हैं. आपका आभार.