राहुल गांधी की संपत्ति अरबों नहीं सिर्फ 9 करोड़, ऐसे सामने आया सच

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की संपत्ति को अरबों खरबों बताने वाले सोशल मीडिया के बहादुरों को बीजेपी ने कड़ा जवाब दिया है. पार्टी ने खुद ही कहा है कि राहुल गांधी की संपत्ति कुल 9 करोड़ रुपये है.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से पूछा कि उनकी आय के स्रोत क्या हैं.

इससे पहले राहुल गांधी ने येदियुरप्पा डायरी के हवाले से कांग्रेस नेताओं को मिले अरबों रुपये का खुलासा किया था. इसके बाद से पार्टी तिलमिलाई हुई थी. इसके जवाब में ये अटैक आया है.

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हम जानाना चाहते हैं कि राहुल गांधी के आय का स्रोत क्या है. उन्होंने राहुल गांधी के बहनोई और कारोबारी रॉबर्ट वाड्रा को भी निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि क्या यह वॉड्रा मॉडल ऑफ डेवलेपमेंट है. उन्होंने कहा कि पिछले 2 से 3 साल में कैसे 6 से 7 लाख की संपत्ति बढ़कर 7 से 8 करोड़ की हो गई.

राहुल का बिजनेस मॉडल क्या है?

रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर सवाल उठाते हुए कहा कि हम राहुल गांधी का बिजनेस मॉडल देख रहे हैं. राहुल गांधी ने 2004 के अपने चुनावी हलफनामें कहा था कि उनके पास 55,83,123 लाख रुपए की सपंत्ति है. यह संपत्ति कैसे बढ़कर 2009 में 2 करोड़ हो गई.

2014 में यह संपत्ति बढ़कर 9 करोड़ हो गई. राहुल गांधी का यह बिजनेस का मॉडल क्या है. रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी से सवाल किया कि कैसे एक सांसद की संपत्ति इतने वर्षों में इतनी ज्यादा बढ़ सकती है.

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कि राहुल गांधी और प्रियंका के पास 4.69 एकड़ का फॉर्म हाउस था जिसे दिल्ली फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी ऑफ इंडिया को दिया गया था. नेशनल स्पॉट एक्सचेंज ने दिल्ली फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी ऑफ इंडिया को नोटिस भेजा गया. संजय भंडारी रॉबर्ट वाड्रा के साथ संपर्क में रहे. ऐसे में हमारा सवाल है कि क्या आपने यूनिटेक से दो संपत्तियां ली थीं. एक संपत्ति की कीमत 1.44 करोड़ रुपए की थी, वहीं दूसरी संपत्ति 5.6 करोड़ रुपए की थी.

अभी तक हमने वाड्रा मॉडल ऑफ़ डेवलपमेंट ही देखा था जिसमें 6 या 7 लाख रुपये लगाइये और दो तीन वर्षों में 700 से 800 करोड़ रुपये की सम्पत्ति के मालिक हो जाइये.

Leave a Reply