राफेल ने तहस नहस किया तुर्की का सैन्य ठिकाना

खबर सब तक पहुंचाएं

फ्रांसीसी मूल के राफेल लड़ाकू विमानों ने लीबिया में स्थित तुर्की के अल वाटिया एयरबेस पर जबरदस्त हमला बोला है. इसमें तुर्की के कई प्लेन, ड्रोन और फिक्स विंग एयरक्राफ्ट बर्बाद हो गए. दावा किया जा रहा है कि हमलें में तुर्की के कई सैनिक भी हताहत हुए हैं.

द अरब वीकली के हवाले ने नवभारत टाइम्स ने रिपोर्ट दी है कि  लीबिया को लेकर मिस्र और तुर्की के बीच तनाव चरम पर है. तुर्की ने लीबिया की राजधानी त्रिपोली से 125 किलोमीटर दूर नूकत अल कमस जिले में अल वाटिया एयरबेस पर अपने फाइटर जेट, ड्रोन और मिसाइल सिस्टम को तैनात किया है. जिसे मिस्र और फ्रांस अपनी सुरक्षा के लिए खतरा बताते रहे हैं. मिस्र ने कई बार इसे लेकर तुर्की को चेतावनी भी दी थी.

ये भी पढ़ें :  अडानी का प्रोजेक्ट कवर करने आए विदेशी पत्रकारों को गुजरात पुलिस की धमकी, ऑस्ट्रेलिया में वायरल हुआ स्टिंग

रक्षा मंत्री की यात्रा के जवाब में किया गया हमला

इस रिपोर्ट के अनुसार, हाल में ही तुर्की के रक्षा मंत्री हुलुसी अकार ने त्रिपोली की यात्रा की थी. माना जा रहा है कि इसी के जवाब में मिस्र और फ्रांस ने इस हवाई हमले को अंजाम दिया है.

लीबियन सरकार ने की हमले की पुष्टि

रविवार को लीबिया की सरकार ने भी मिस्र सरकार पर अल वाटिया एयरबेस पर हमला करने का आरोप लगाया था. हालांकि उन्होंने हमलावर जहाजों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी थी. वहीं, तुर्की और कतर की मीडिया ने कहा कि इस बमबारी में कोई भी सैनिक हताहत नहीं हुआ. जबकि द अरब वीकली ने सूत्रों के हवाले से कहा कि इस हमले में तुर्की के कई सैनिकों की मौत हो गई. जबकि, घायलों को अल जमील शहर के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

ये भी पढ़ें :  मोदी के हाथ से निकलते जा रहे हैं हालात, राष्ट्रवाद ने युद्ध के मुहाने पर खड़ा किया, ग्लोबल टाइम्स का लेख

अमेरिकन एफ-16 हुआ फेल

एयरबेस के नजदीक रहने वाले एक सैन्य अधिकारी ने बताया कि लड़ाकू विमानों के एक स्क्वाड्रन ने अल वाटिया एयरबेस पर बमबारी की. यहां तुर्की ने एफ -16 लड़ाकू विमानों के अलावा Bayraktar TB2 अंका- एस ड्रोन के अलावा वाई सुरक्षा के लिए एमआईएम-23 हॉक एयर डिफेंस सिस्टम को तैनात किया है. आपको बता दें कि पाकिस्तान के पास एफ 16 है और भारत राफेल खरीद चुका है.


खबर सब तक पहुंचाएं