भारतीय सेना ने दिए हिम मानव के सबूत, पहली बार प्रमाण आया सामने

लंबे समय से हिममानव की मौजूदगी को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जाते रहे हैं. कई बार लोगों द्वारा दुनियाभर में हिममानव ‘येती’ को देखे जाने की घटनाएं सामने आती रही हैं. ये मान्यता सदियों से चली आ रही है कि हिममानव हिमालय में बनी गुफाओं में आज भी रहते हैं. हालांकि, अभी तक इसकी मौजूदगी को लेकर कोई ठोस सबूत सामने नहीं आया था. पहली बार भारतीय सेना ने हिममानव ‘येती’ की मौजूदगी को लेकर बड़ा दावा किया है.

भारतीय सेना ने पहली बार हिममानव की मौजूदगी को लेकर सबूत पेश किया है. दरअसल, सेना को हिमालय में हिममानव ‘येति’ के पैरों निशान मिले हैं, जिसे उन्होंने ट्विटर पर शेयर किया है. तस्वीरों में बर्फ पर पैरों के बड़े-बड़े निशान दिखाई दे रहे हैं. माना जा रहा है कि ये निशान हिममानव ‘येती’ के पैरों के ही हैं. भारतीय सेना ने कुल तीन तस्वीरें शेयर की हैं.

सेना ने ट्वीट में कहा, ‘पहली बार भारतीय सेना पर्वतारोहण अभियान दल ने 09 अप्रैल, 2019 को मकालू बेस कैंप के करीब 32×15 इंच वाले ‘येति’ के रहस्यमयी पैरों के निशान देखे हैं. इस मायावी हिममानव को इससे पहले केवल मकालू-बरुन नेशनल पार्क में भी देखा गया.

बता दें कि हिम मानव येति हिमालय में रहने वाला सबसे रहस्यमयी प्राणी है. येति को ज्यादतार नेपाल और तिब्बत के हिमालय क्षेत्र में देखे जाने की घटना सामने आती रही है. हालांकि, इन दावों को लेकर वैज्ञानिक एकमत नहीं हैं.

येति के बारे में कहा जाता है कि यह दुनिया के सबसे रहस्यमयी प्राणियों में से एक है. कई बार इन्हें देखे जाने की खबरें सामने आती रही हैं.

लद्दाख के कुछ बौद्ध मठों ने दावा किया था कि हिम मानव ‘येति’ उन्होंने देखे हैं. शोधकर्ताओं की मानें तो ये पोलर बियर वाली प्रजाति है जो 40 हजार साल पुरानी है. कुछ रिसर्चर कहते हैं कि ये भालू की ही एक प्रजाति है जो हिमालय में रहती है. इसे लेकर वैज्ञानिकों में भी एकमत नहीं हैं.

येति एक पौराणिक प्राणी  है जो कथित तौर पर नेपाल, लद्दाख और तिब्बत के हिमालय क्षेत्र में निवास करता है. येति और यह उनका इतिहास पुराणों में भी मिलता है. पौराणिक कहानियों की मानें तो नेपाल में येति को राक्षस या दानव भी कहा जाता है. कुछ अन्य ग्रंथों में नेपाल और हिमालय के क्षेत्रों में राम-सीता के प्रचलित लोक गीतों में येति का उल्लेख किया गया है.

कैसा दिखता है येति

येति दिखने में एक सामान्य इंसान से लंबा, भालू जैसा और बालों से पूरा शरीर ढ़का हुआ जैसा दिखता है. कहा जाता है कि येति में से एक अजीब गंध आती है और यह चीखता भी है जो बेहद ताकतवर होता है. येति को देखने की पहली रिपोर्ट 1925 में एक जर्मन फोटोग्राफर की तरफ से आई थी.