कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी का इस्तीफा, हेमा मालिनी की सीट से है कनेक्शन

कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. प्रियंका चतुर्वेदी ने 17 अप्रैल को ही अपनी पार्टी के प्रति नाराजगी जाहिर की थी. प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा था कि गुंडों को कांग्रेस पार्टी में तरजीह दी जाती है. दरअसल पिछले दिनों मथुरा में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कुछ स्थानीय नेताओं ने प्रियंका चतुर्वेदी के साथ बदसलूकी की थी.
उस वक्त उन नेताओं को पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था. लेकिन चुनाव से ठीक पहले उन सभी नेताओं को पार्टी में वापस लिए गया जिसके बाद प्रियंका चतुर्वेदी पार्टी से नाराज चल रही थीं.

चतुर्वेदी ने 17 अप्रैल को इसको ट्वीट किया था ‘गहरा दुःख पहुंचा है कि गुंडों को कांग्रेस पार्टी में उनसे ज्यादा तरजीह दी जाती है जिन्होंने अपना पसीना और खून पार्टी के लिए बहाया. पार्टी के लिए जिन्होंने ईंट-पत्थर और गालियों तक का सामना किया, लेकिन फिर भी जिन लोगों ने मुझे पार्टी के भीतर धमकी दी उनपर कार्रवाई नहीं की गई यह दुर्भाग्यपूर्ण है’

Deeply saddened that lumpen goons get prefence in @incindia over those who have given their sweat&blood. Having faced brickbats&abuse across board for the party but yet those who threatened me within the party getting away with not even a rap on their knuckles is unfortunate. https://t.co/CrVo1NAvz2— Priyanka Chaturvedi (@priyankac19) April 17, 2019

इससे पहले प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने ट्विटर अकाउंट में से कांग्रेस प्रवक्ता पद हटा दिया है. साथ ही उन्हों ने कांग्रेस का वाट्सएप ग्रुप (AICC online media) भी छोड़ दिया है. इससे पार्टी के खिलाफ उनकी नाराजगी और कांग्रेस छोड़ने की अटकलें तेज हो गई हैं.

बता दें कि 17 अप्रैल को कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने साथ कथित तौर पर बदसलूकी करने वाले मथुरा के कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई निरस्त किए जाने का विरोध करते हुए दावा किया कि ऐसे लोगों को प्राथमिकता दिए जाना दुख की बात है.

प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, ‘‘बड़े ही दुख की बात है कि पार्टी खून-पसीना देकर काम करने वालों की बजाय मारपीट करने वाले गुंडों को अधिक वरीयता देती है. पार्टी के लिए मैंने अभद्र भाषा से लेकर हाथापाई तक झेली, लेकिन फिर भी जिन लोगों ने मुझे पार्टी के अंदर धमकी दी, उनके साथ कोई भी ठोस कार्रवाई नहीं हुई. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण हैं.’

दरअसल, पिछले दिनों प्रियंका राफेल मामले पर संवाददाता सम्मेलन करने के लिए मथुरा में थीं जहां पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं ने उनके साथ कथित तौर पर बदसलूकी थी. उनकी शिकायत पर इन कार्यकर्ताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था. अब उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि कार्यकर्ताओं द्वारा खेद प्रकट करने के बाद उनके खिलाफ अनुशास्नात्मक कार्रवाई को निरस्त किया जा रहा है. सूत्रों का कहना था कि यूपीसीसी के इस कदम से नाराज प्रियंका ने ट्वीट करने के साथ ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को अपनी नाराजगी से अवगत कराया था.