गुजरात के स्वामीनारायण मंदिर में नोट छापने का कारखान, पुजारी समेत पूरा गैंग पकड़ा

गुजरात के स्वामीनारायण(SWAMINARAYAN) मंदिर में नकली करंसी नोट (FAKE NOTE) छापने का कारखाना चल रहा था. मंदिर में अंदर नकली करंसी नोट छपते थे और उन्हें गुजरात में अलग अलग जगह चलाया जाता था. इस मामले में गुजरात के कई हिस्सों में गिरफ्तारियां हुई हैं और अब तक पांच लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं. इनमें से एक शख्स स्वामीनारायण मंदिर का पुजारी राधारमन स्वामी बताया जा रहा है. पकड़े गए लोगों के पास से 1 करोड़ रूपए से ज्यादा के नकली करंसी नोट मिले हैं.

दरअसल सूरत में अपराध शाखा (Crime Branch) ने बीते शनिवार की देर रात एक ऑपरेशन की शुरुआत की थी. मुखबिरों से सूचना मिलने पर पुलिस ने सबसे पहले यहां के रहने वाले 19 साल के एक शख्स प्रतीक डी चौडवाडिया को गिरफ्तार किया.

क्राइम ब्रांच ने जिस वक्त चौडवाडया को पकड़ा उस वक्त वो अपनी कार में नकली नोटों को लेकर सड़क पर घूम रहा था. पुलिस ने इसके पास से 2000 रुपए के कुल 203 नकली करंसी नोट पकड़े . इसके पास से 35,000 रुपए का एक सेलफोन भी मिला. पुलिस ने उसकी कार को भी सीज कर लिया जिसकी कीमत 5 लाख रुपए बताई जा रही है.

ये भी पढ़ें :  स्कूल बस के ड्राइवर को गोली मारकर बच्चा हुआ किडनैप, वारदात की जगह जानकर होगा अचरज़

इस शख्स ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि यह रैकेट खेड़ा जिले के अम्बाव गांव में स्थित स्वामीनारायण मंदिर परिसर में बने एक कमरे से चलाया जा रहा है. जानकारी मिलते ही पुलिस ने बीते रविवार (24-11-2019) को सभी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमों का गठन किया. दलबल के साथ जब पुलिस मंदिर के कमरे में पहुंची तो वो भी दंग रह गई.

पुलिस ने यहां से भारी संख्या में नकली करंसी नोट के अलावा अवैध नोट छापने की मशीन बरामद किये. पुलिस ने  5 आरोपियों के पास से 2,000 रुपए के 5,013 नकली करंसी नोट बरामद किये. पुलिस ने इस मामले में जिन 5 लोगों को पकड़ा है उनमें से एक शख्स स्वामीनारायण मंदिर का पुजारी राधारमन स्वामी बताया जा रहा है. बताया जा रहा है कि राधारमन मंदिर के उसी कमरे में रहता था जिस कमरे में नकली करंसी नोट छापने की मशीन को छिपाया गया था. पुलिस ने 2,000 रुपए के 2,500 जाली नोट इस कमरे से बरामद किये.

ये भी पढ़ें :  क्या मुन्ना बजरंगी को हत्या के लिए बागपत लाया गया था, जेल में पिस्टल का क्या है सस्पेंस

राधारमन और प्रतीक के अलावा जिन लोगों को इस मामले में पकड़ा गया है उनमें प्रवीण जे चोपड़ा उसका बेटा कालू प्रवीण चोपड़ा शामिल है. पुलिस को प्रवीण के एक और बेटे की इस मामले में तलाश है. पुलिस को शक है कि उसके पास भी कई सारे नकली करंसी नोट हो सकते हैं.

ये भी पढ़ें :  आत्महत्या करने वाले इस मुख्यमंत्री के बेटे की भी रहस्यमय मौत

इस मामले में पुलिस ने एक और शख्स मोहन माधव को अंकलेश्वर स्थित उसके घर से पकड़ा है. मोहन माधव के पास से 12 लाख रुपए के नकली करंसी नोट मिले हैं. इन सभी आरोपियों को पकड़ने और नकली नोटों की गिनती के बाद क्राइम ब्रांच ने बताया कि इनके पास से 1 करोड़ रुपए से ज्यादा के नकली करंसी नोट मिले हैं.

पुलिस का कहना है कि इस मामले में एक और आरोपी की तलाश जारी है साथ ही साथ इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि उन्होंने नकली करंसी नोट के इस कारोबार के जरिए अब तक कितना कमाया है.

यह भी खुलासा हुआ है कि आरोपी प्रवीण चोपड़ा के खिलाफ 10 केस दर्ज हैं इनमें एक नकली करंसी नोट का मामला भी है. इस मामले में सभी आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 489, 120 (b) और धारा 34 के तहत केस दर्ज किया गया है और पुलिस अब इस मामले में आगे की तफ्तीश में जुटी हुई है.