ये है अमित शाह का निजी संगठन, असल भाजपा को डुबोने की है ताकत

Assocation of Billion Minds, ABM, यह वो संगठन और नेटवर्क है जो बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह की पर्सनल टीम की तरह काम करती है. बीजेपी अपने आप में एक विशाल संगठन है. निष्ठावान कार्यकार्ताओं की फौज है. इसके बाद भी ABM पार्टी के समानांतर सिर्फ अध्यक्ष की मर्ज़ी से काम करने वाला ऐसा नेटवर्क है जिसके बारे में ज़्यादातर कार्यकर्ताओं को पता भी नहीं होगा. सांसदों को भी पता नहीं होगा. जिन्हें पता होगा उन्हें बस इतना कि यह अमित शाह की पर्सनल टीम है.

हफपोस्ट न्यूज़ वेबसाइट के संपादक अमन सेठी ने महीनों सैंकड़ों पन्नों के दस्तावेज़ की खाक छानने और कई लोगों से मिलने के बाद पाया है कि 166 लोगों की यह टीम देश के 12 जगहों पर अपना दफ्तर रखती है. इसका काम है व्हाट्स एप के लिए मीम तैयार करना, चुनावों के समय न्यूज़ वेबसाइट की शक्ल में प्रोपेगैंडा वेबसाइट लांच करना, बदनाम करने और अफवाह फैलाने का अभियान चलाना, अपने नेता के समर्थन में फेसबुक पेज चलाना, राजनीतिक अभियान चलाना जैसे भारत के मन की बात और मैं भी चौकीदार. यहाँ यह सवाल उठता है कि क्या भारत में सबसे बड़े फेक न्यूज़ नेटवर्क के मुखिया अमित शाह ही हैं ?

इस लंबी रिपोर्ट को इसलिए भी पढ़ें ताकि आप यह देख सकें कि हमारे राजनीतिक दल किस तरह से बदल रहे हैं. वे दिनों दिन रहस्य होते जा रहे हैं. आपके सामने बीजेपी का एक कार्यकर्ता खड़ा है. जिसे आप जानते हैं, पहचानते हैं. गले लगाते हैं और नाराज़गी ज़ाहिर करते हैं. मगर अब वो सिर्फ एक इंसानी रोबोट है. बल्कि वो कुछ भी नहीं है. प्लास्टिक के खिलौने की तरह उसका काम है चौराहे पर लगाए गए शामियाने या किसी धरना प्रदर्शन में जाकर खड़े हो जाना चाकि लगे कि वहां कोई पार्टी है. दरअसल अब पार्टी वहां नहीं हैं. पार्टी वहां हैं जहां ABM जैसे नेटवर्क हैं.

दुनिया भर में ऐसे गुप्त संगठन जिनके पास डेटा को समझने और हासिल करने की ताकत होती है, अब चुनावों को प्रभावित कर रहे हैं. अभी ही ये नेटवर्क जीवंत कार्यकर्ताओं से लैस पार्टी को विस्थापित कर चुके हैं. पार्टी इनके ही बनाए प्लान के हिसाब से काम करती है. काम में आप यह शामिल करें कि कार्यकर्ता सिर्फ इनके बनाए व्हाट्एस एप मीम को फार्वर्ड करने और फेसुबक पेज को लाइक करने का एजेंट बनकर रह जाता है.

यह बदलाव सभी दलों में धीरे-धीरे आ रहा है मगर बीजेपी के पास संसाधन बहुत है इसलिए उसका नेटवर्क कहीं ज़्यादा परिपक्व हो चुका है. पार्टी के भीतर भी कुछ नेता छोटे स्तर पर ऐसे नेटवर्क बना रहे हैं. अगली बार जब वर्चस्व की लड़ाई होगी तो इन नेताओं के बीच इन नेटवर्क की भूमिका ख़तरनाक हो जाएगी. हफ पोस् की इस रिपोर्ट को ज़रूर पढ़िए कि कैसे 2014 से पहले एक एन जी ओ बनाया जाता है. तीन साल वह बेकार रहता है फिर उसका नाम बदल कर Assocation of Billion Minds, ABM कर दिया गया. इसका कुछ भी पब्लिक में नहीं है. कानून के नियम ऐसे हैं जिसका लाभ उठाकर इस तरह का संगठन बनाया गया है. आप नहीं जान सकेंगे कि इसे चलाने के लिए कौन पैसा दे रहा है. बीजेपी पैसा दे रही है तो वह भी जान सकेंगे जिससे कि इस ख़र्च को आप चुनावी ख़र्च में जोड़ा जा सके.

अमन सेठी की यह रिपोर्ट मौजूदा समय में राजनीतिक दलों के भीतर फाइनांस की तस्वीर को भी सामने लाती है. इनका एक ही काम है. मुद्दों को गढ़ना, हवा बनाना और पार्टी या व्यक्ति के हाथ में सत्ता सौंप देना ताकि वह फिर सत्ता में आकर बिजनेस घरानों पर सरकारी खज़ाना लुटा सके. सोचिए अमित शाह से संबंधित एक ऐसी टीम है जो फेक न्यूज़ फैलाती है. फर्ज़ी वेबसाइट लांच करती है. यह नए दौर की अनैतिकता है. जिसके बारे में सामान्य पाठकों को पता नहीं है. अंग्रेज़ी में इस रिपोर्ट को आप ध्यान से पढ़ें. हो सके तो दो बार पढ़ें.

हिन्दी के एक पाठक ने सवाल किया कि हिन्दी में ऐसी रिपोर्ट क्यों नहीं होती. जवाब में कई कारण बता सकता हूं लेकिन हिन्दी में ऐसी रिपोर्ट नहीं हो सकती है. हिन्दी पत्रकारिता का मानव संसाधन औसत से 99 अंक नीचे है. शून्य से एक पायदान ऊपर मगर अहंकार में सबसे ऊपर. आप पिछले पांच साल के दौरान एक खबर नहीं बता सकते हैं जो इस तरह की हो और उसे किसी हिन्दी पत्रकार ने की हो.

भविष्य के हिन्दी पत्रकारों के लिए यह सवाल बहुत शानदार है कि हिन्दी में ऐसी रिपोर्ट क्यों नहीं होती है. जवाब के लिए ज़रूरी है कि जो छात्र हिन्दी पत्रकारिता पढ़ रहे हैं, उन्हें ऐसी रिपोर्ट को बार बार पढ़नी चाहिए और इस पर नोट्स बनाने चाहिए. मुझे पूरा विश्वास है कि कोई न कोई बंदा निकलेगा जो अमन सेठी के स्तर की पत्रकारिता करेगा. आने वाले समय में वही अच्छा पत्रकार बनेगा जो कानून, डेटा और अकाउंट की बारीक समझ रखता हो. मुझे कोई कंपनी के पेपर्स दे जाता है तो हाथ-पांव फूल जाते हैं. समझ ही नहीं आता है कि कहां क्या हो रहा है. कैसे उन कागज़ात से चोरी पकड़नी है.

अगर आप पाठक हैं तो हफिंगटन पोस्ट के इस लंबी रिपोर्ट को पढ़िए. अंग्रेज़ी नहीं आती है तब भी पढ़िए. जानने के लिए मेहनत करनी पड़ती है. आपके लिए यह जानना ज़रूरी है कि हमारे राजनीतिक दल किस तरह रहस्यमयी और निजी संगठनों की जेब में चले गए हैं. उस जेब में हाथ सिर्फ एक या दो ही नेता डाल सकते हैं. लाखों कार्यकर्ताओं को अंधेरे में रखा जा रहा है ताकि वे सिर्फ नारे लगाने की मशीन बने रहें.

एक मतदाता को यह जानने के लिए पढ़ना चाहिए कि वह जिन मुद्दों को देश के भविष्य के लिए समझता है क्या वे मुददे वास्तिवक हैं या उसके अपने मुद्दों को गोबर से ढंक देने के लिए गढ़े गए हैं. अच्छी रिपोर्ट वही होती है जिसे पढ़ने में सबका भला हो. आमीन.

कहा जाता है कि पेज पर लिंक देने से पोस्ट की रफ्तार धीमी हो जाती है. फिर भी मैं लिंक दे रहा हूं ताकि आप पढ़ें. ये लेख वाट्सएप पर प्राप्त हुआ है. इसकी सत्यता की जांच नहीं की गई है.