वैज्ञानिकों ने पता लगाया घर पर ही कोरोना को पहचानने का सही तरीका, बच सकेंगी जानें

वैज्ञानिकों ने कोरोना के असली लक्षणों का पता लगा लिया है. अब ये पता चल गया है कि जिसे कोरोना होता है उसके लक्षण क्या क्या होते हैं और किस क्रम में आते हैं. अभीतक फ्लू यानी इनफ्लूएंजा के लक्षणों को ही कोरोना का लक्षण माना जाता था. लेकिन अब पता चल गया है कि कोरोना में आने वाले लक्षणों का क्रम क्या है.

अमेरिका के शोधकर्ताओं ने अब कोरोना के लक्षणों का क्रम पहचान लिया है, इसके बाद अब ये पता लगाना आसान हो जाएगा किसी व्यक्ति को कोरोना है या नहीं. अमेरिकी शोधकर्ताओं ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से बताए गए लक्षणों का क्रम तैयार कर लिया है.

शोधकर्ताओं के कोविड-19 के लक्षणों की ये पहचान बताई है . वो कहते हैं कि अगर कोई शख्स कोरोना से संक्रमित है तो सबसे पहले उसे बुखार महसूस होगा, उसके बाद खांसी, मांसपेशियों में दर्द और फिर जी मचलना, उल्टी और दस्त जैसे लक्षण नजर आने लगते हैं.

ये भी पढ़ें :  शराब का नशा उतारने के अचूक तरीके, नये साल में ये लेख आएगा काम

कोरोना वायरस के लक्षणों को जानने से इसके इलाज में काफी मदद मिलेगी. अब फायदा ये होगा कि कोरोना संक्रमित शख्स को इलाज के लिए जल्द अस्पताल में भर्ती करा दिया जाएगा. क्योंकि आप घर पर ही जान सकेंगे कि संबंधित व्यक्ति कोरोना है या कुछ और.

यह नया शोध फ्रंटियर्स इन पब्लिक हेल्थ नाम की पत्रिका में छपा है, जिसके मुताबिक लक्षणों का क्रम पता चलने से डॉक्टर, मरीज के इलाज की योजना आसानी से बना सकता है.

ये भी पढ़ें :  मोमोज़ में चिकन की जगह कुत्ते का मीट, दुकानों का सामान जब्त, आर्मी कैंटीन में रोक

डॉक्टर्स का कहना है कि क्रम पता चलने से इस बीमारी को समय से पहले भी नियंत्रित किया जा सकता है. अमेरिका के दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोध लेखक पीटर कुन का कहना है कि इस क्रम की मदद से विशेष तौर पर यह जानना आसान हो जाएगा कि हम कोरोना जैसी फ्लू बीमारियों से कब पार हो जाएंगे.

इसके अलावा शोध के अन्य लेखक जोसेफ लार्सन ने कहा कि क्रम पहचानने से मरीज के इलाज के लिए सही नज़रिय़ा मिल जाएगा और इलाज में परेशानी नहीं आएगी. बुखार और खांसी अक्सर अलग-अलग सांस की बीमारियों से जुड़े होते हैं, जिनमें मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (मर्स) और सार्स भी शामिल हैं.