मोदीजी आपको देश की ज्यादा चिंता है या दोबारा पीएम बनने की?

आप खुल्लेआम युद्ध पर राजनीति कर रहे हैं. भारत मां के बेटे मारे जा रहे हैं और आप मुस्कुरा रहे हैं. जैसे जैसे तनाव बढ़ता है आपका उल्लास दुगुना हो जाता है. आप चुनाव, चुनावी रैलियां और देश की सत्ता पर एक बार फिर काबिज होने की हर कोशिश में लगे रहते हैं. आप उकसाऊ भाषण देते हैं. आप विपक्ष पर अटैक पर अटैक करते हैं. बूथ लेवल की मीटिंग करते हैं. लेकिन विपक्ष को मुंह तक नहीं खोलने देते. तनाव को युद्ध का दर्जा दे रखा है. देश की सरकार का साथ देने और उसके साथ खड़े रहने के नाम पर विपक्ष पर दबाव है कि वो नेता को ही देश मान ले. ये नया भारत है. ऐसा भारत जो अधिनायकवाद के अहंकार से भरा हुआ है.

ऐसा भारत जो जो बुद्ध और गांधी का भारत है. जिसने दुनिया को शांति सिखाई इस समय युद्ध के लिए व्याकुल दिखाई दे रहा है. बल्कि उसकी छवि दुनिया के सामने वैसी ही बनाई जा रही है. दूसरी तरफ आतंक का सरपरस्त देश शांति दूत की तरह खुद को पेश कर रहा है. वो बार-बार युद्ध खत्म करने के लिए दबाव बना रहा है. आप युद्ध के लिए लपलपाते नज़र आ रहे हैं क्योकि चुनाव नज़दीक है.

ये निचोड़ है उन बयानों का जो विपक्ष की तरफ से आ रहे हैं . खुलकर सभी पार्टियों के नेता कह रहे हैं कि ये बीजेपी की बूथ लेवल मीटिंग का समय नहीं है जब पाकिस्तान ने अपने कब्ज़े में हमारे जवान को ले रखा है.

अरविंद केजरीवाल ने अपने अंदाज़ में कहा कि देश की सीमाओं पर संकट है ऐसे में मोदीजी से मैं अपील करता हूं कि वो अपने कार्यक्रम को आगे बढ़ा दे.

यही खयाल नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्लाह का है. उन्होंने बुधवार को कहा कि जब तक भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन पाकिस्तान की गिरफ़्त से सुरक्षित घर नहीं लौट जाते हैं तब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपनी सभी राजनीतिक गतिविधियां स्थगित कर देनी चाहिए.

उमर अब्दुल्लाह ने ट्वीट कर कहा, “प्रधानमंत्री मोदी को अपनी सभी राजनीतिक गतिविधियां कमांडर अभिनंदन के सुरक्षित वापस लौटने तक स्थगित कर देनी चाहिए. हमारा पायलट पाकिस्तान की गिरफ़्त में है और मोदी करदाताओं के पैसे से देशभर का दौरा करें और राजनीतिक भाषण दें, सामान्य बात नहीं है.”

भारत के बालाकोट हमले के बाद भारत-पाक सीमा पर बने हालात के मद्देनजर देश के सभी विपक्षी पार्टियों ने बुधवार को बैठक भी की. तीन घंटे चली इस बैठक के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने संयुक्त बयान पढ़ा, जिसमें देश में तनाव भरे माहौल पर चिंता ज़ाहिर की.

उन्होंने पाकिस्तान की गिरफ़्त में भारतीय पायलट को सकुशल वापस लौटने की कामना की. उन्होंने कहा, “देश का सैनिक दुश्मन द्वारा पकड़ा जाता है और फाइटर प्लेन निशाना बनता है, इसकी ज़िम्मेदारी और जवाबदेही मोदी सरकार की बनती है.” बैठक में विपक्षी दलों के नेताओं ने जवानों की मौत का राजनीतिकरण होने पर चिंता ज़ाहिर की.

भारत ने पुलवामा में सीआरपीएफ़ के क़ाफ़िले पर हुए हमले में चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के शामिल होने के संबंध में पाकिस्तान को डॉज़ियर सौंप दिया है.

उधर डॉज़ियर में हमले के पीछे जैश का हाथ होने और संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित चरमपंथी संगठनों के कैंप पाकिस्तान में मौजूद होने के बारे में “विस्तृत जानकारी” दी गई है.

बुधवार को पाकिस्तान के दो भारतीय फाइटर जेट को मार गिराने के दावे के बाद भारत के विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के कार्यकारी उच्चायुक्त को तलब कर विरोध जताया और उन्हें डॉज़ियर थमाया. इससे पहले भारत सरकार डोजियर देने से इनकार कर रही थी. उसका कहना था कि अब तक का रिकॉर्ड ऐसा नहीं है कि देश पाकिस्तान से निष्पक्ष जांच की उम्मीद करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *