लॉकडाउन की असफलता से गुस्से में मोदी, इस राज्य में कर्फ्यू लगाया गया

देश भर में रविवार (23 मार्च) को जनता कर्फ्यू की सफलता के बाद प्रधानमंत्री ने लोगों को बधाई दी थी. हालांकि, कुछ जगहों पर रविवार शाम और सोमवार सुबह सड़कों पर जनता के जुटने और अतिउत्साह दिखाने पर प्रधानमंत्री ने नाराजगी जताई है. राज्य सरकारों की पहल के जनता द्वारा तोड़े जाने पर पीएम मोदी ने ट्वीट में कहा, लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें. राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं.

प्रधानमंत्री के इस ऐलान के बाद भारत सरकार ने एडवाइजरी जारी कर दी है. इसमें कहा गया है कि राज्य लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराएं. इसका उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

एक दिन पहले ही केंद्र सरकार ने कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए राज्य सरकारों से उन 75 जिलों में केवल आवश्यक सेवाओं का ही परिचालन किये जाने का आदेश जारी करने को कहा. जहां कोविड-19 के पुष्ट मामले सामने आए या जहां इससे लोगों की मौत हुई है, उनमें दिल्ली के 7 जिले शामिल हैं. इससे साथ ही अंतरराज्यीय बस सेवाएं भी 31 मार्च तक बंद रखने का फैसला किया गया है. इसके अलावा 31 मार्च तक दिल्ली मेट्रो समेत सभी मेट्रो सेवाएं भी स्थगित रहेंगी .

ये भी पढ़ें :  राष्ट्रपति का खुलासा: मोदी सरकार से रहे मतभेद, जेटली के फैसलों पर उठाया था सवाल

जिन 75 जिलों में केवल आवश्यक सेवाओं का ही परिचालन किये जाने का फैसला किया गया है, उनमें दिल्ली से सेंटल, पूर्वी दिल्ली, उत्तर दिल्ली, उत्तर पश्चिम दिल्ली, उत्तर पूर्व दिल्ली, दक्षिण दिल्ली, पश्चिम दिल्ली शामिल हैं .

इधर पंजाब कोरोना वायरस के कारण कर्फ्यू लगाने वाला पहला राज्य बन गया है. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कर्फ्यू की घोषणा की क्योंकि लोग राज्य में लगाए गए लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं. मुख्यमंत्री ने पूरे पंजाब में कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी कर दिये हैं, ऐसा करने वाला पंजाब पहला राज्य है.

ये भी पढ़ें :  मास्टर प्लान में बदलाव हुआ तो मुसीबत में फंस जाएंगे व्यापारी, इससे तो अच्छी सीलिंग है.

इस बात की जानकारी राज्य सरकार के अधिकारियों ने दी है. न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक अधिकारियों ने कहा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कर्फ्यू की घोषणा की क्योंकि लोग राज्य में लगाए गए लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं.  एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा, “मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ स्थिति की समीक्षा करने के बाद, सीएम ने बिना किसी ढील के साथ पूर्ण कर्फ्यू की घोषणा की है.”

प्रवक्ता ने पीटीआई से बात करते हुए कहा कि यह कर्फ्यू इसलिए लगाया गया है क्योंकि लोग अभी भी बड़ी संख्या में बाहर आ रहे हैं. लोग यह समझने को तैयार नहीं हैं कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है.

मुख्यमंत्री ने पूरे पंजाब में कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी कर दिये हैं, ऐसा करने वाला पंजाब पहला राज्य है. प्रवक्ता ने कहा कि उपायुक्तों को आवश्यक आदेश जारी करने के लिए कहा गया है.

ये भी पढ़ें :  किशोर ने शारीरिक संबंध बनाने से इनकार किया तो, महिला ने उसका मेनपार्ट ....

यह कर्फ्यू सोमवार से 31 मार्च तक लागू रहेगा. इससे पहले सोमवार सुबह केंद्र सरकार ने देश के 75 जिलों में जारी लॉकडाउन को लेकर राज्यों को पत्र लिखा था. कोरोना वायरस से सुरक्षा के मद्देनजर असाधारण कदम उठाते हुए पूरे देश के 22 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के 75 जिलों में लॉकडाउन की घोषणा की गई है. इसके अलावा कई शहरों में धारा 144 लागू कर दी गई है.

केंद्र ने राज्य सरकारों से कहा है कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए बंद (लॉकडाउन) का सख्ती से पालन सुनिश्चित करें और इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें. इसके अलावा सभी पैसेंजर ट्रेनें, अंतरराज्यीय बसें, मुंबई की लोकल ट्रेन और मेट्रों ट्रेन सेवा को भी 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिया गया है. बता दें इस खतरनाक वायरस से देश में अबतक 415 लोग संक्रमित हो चुके हैं. वहीं अबतक इसके चलते 7 लोगों की मौत हो चुकी है.