जब विधायक को श्मशान में बितानी पड़ी रात, मच्छरों ने काट-काट कर किया बुरा हाल

सारे नेता बुरे नहीं होते. आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी जिले में तेलुगूदेशम पार्टी के एक एमएलए ने अंधविश्वास दूर करने के लिए पूरी रात मच्छरों के बीच बिताई. वो भी श्मशान में. दरअसल श्मशान घाट के नवीनीकरण का काम होना था मज़दूर वहां काम करने को तैयारन हीं थे. उन्हें डर था कि वहां काम किया तो बुरी आत्माएं आ जाएंगी.

ये भी पढ़ें :  'आप' के एक और विधायक के खिलाफ केस, दूसरी महिला ने दर्ज कराया मामला

विधायक निम्माला रामा नायडू बताना चाहते थे कि बुरी आत्माओं जैसी कोई चीज नहीं होती और इसी के चलते वह पूरी रात शमशान घाट में सोए और सुबह उठकर घर गए.

मीडिया से बातचीत में विधायक ने कहा कि वह दो-तीन दिन और यहीं सोएंगे. वह ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि मजदूर श्मशान में काम करने से डर रहे हैं. उनके ऐसा करने से मजदूरों को हिम्मत मिलेगी.

ये भी पढ़ें :  राहुल गांधी ने अपनी विधायक से ज्यादा सिपाही को दी अहमियत, मंगवाई माफी

‘मच्छरों ने बहुत काटा’

उन्होंने कहा कि श्मशान में उचित सुविधाएं नहीं हैं. बताया जा रहा है कि लोगों की शिकायत के बाद श्मशान के नवीनीकरण के लिए विधायक को रकम दी गई, लेकिन कोई श्मशान में काम करने को तैयार नहीं हुआ. अंत में नायडू को एक ठेकेदार मिला, जो यहां काम करने को तैयार हुआ, लेकिन मजदूर काम पर आने से डर रहे थे.

ये भी पढ़ें :  मोदी ने बीजेपी सांसदों से मांगा नोटबंदी के जमा रकम का हिसाब, लेकिन असल खेल तो इससे पहले हुआ था

विधायक ने बताया कि कुछ दिन पहले एक मजदूर ने जला हुआ शव देख लिया, जिसके बाद डर फैल गया. क्या श्मशान में सोने में दिक्कत नहीं हुई? विधायक ने कहा कि मच्छरों ने बहुत काटा, लेकिन बाद में मैंने मच्छरदानी लगा ली.

Spread the love

Leave a Reply