आखिर खोज लिया गया भगवान की मूर्ति पर पैर रखने वाला युवक,पुलिस ने पकड़ा

खबर सब तक पहुंचाएं

एक बेहद भड़काऊ तस्वीर आजकल सोशल मीडिया पर दंगे फैलाने वाले अंदाज मे शेयर की जा रही है. इस तस्वीरम  एक दाढी वाला लड़का हिंदू देवाताओं की मूर्ति पर अपना बायां पैर रखे हुए है. तस्वीर शेय़र करने वालों ने दावा किया कि  ये तस्वीर नाम मोहम्मद अंसारी नाम के युपक की है. .

कई फेसबुक यूजर्स ने इस तस्वीर को पोस्ट करते हुए साथ में कैप्शन लिखा है, “इस मुस्लिम व्यक्ति – मोहमद अंसारी को इतना फैला दो की ये ज़िंदगी में मन्दिर में जाने लायक ना बचे.”

इस तस्वीर के कारण काफी नफरत फैल रही थी . बाद में इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने दावा किया कि फोटो में किया जा रहा दावा गलत है. तस्वीर में मौजूद शख्स की पहचान वाराणसी के करधना गांव के रहने वाले आजाद कुमार गौतम के रूप में हुई है. मिर्जामुराद पुलिस ने उसे 24 अप्रैल को गिरफ्तार किया गया और धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में जेल भेज दिया है.

रिवर्स इमेज सर्च की मदद से फैक्ट चेक टीम ने पाया कि कुछ यूजर्स ने यह तस्वीर मई में पोस्ट की थी. इनमें से एक “नीरज द्विवेदी” ने वाराणसी और उत्तर प्रदेश पुलिस को टैग करते हुए यह तस्वीर 11 मई को ट्वीट की थी. इन्होंने लिखा था कि वह व्यक्ति मिर्जामुराद पुलिस स्टेशन के तहत वाराणसी के करधना गांव का निवासी है और भीम आर्मी का सदस्य है.

ये भी पढ़ें :  दिल्ली बम धमाके के तीस आरोपियों को अदालत ने छोड़ा, कहा- पुलिस ने किसी को भी उठा लिया

वाराणसी जोन के एडीजी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने इस ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा कि पुलिस ने इस मामले में पहले ही कार्रवाई कर चुकी है और इस व्यक्ति को जेल भेजा जा चुका है. एक अन्य यूजर की ओर से इसी तरह के सवाल पर वाराणसी पुलिस ने कहा कि 24 अप्रैल को मिर्जामुराद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की है.

ये भी पढ़ें :  दलित महिला से बेटी के सामने 6 दबंगों ने किया रेप, फिर पुलिस ने ...

इसी घटना के बारे में न्यूज वेबसाइट “अमर उजाला” ने 24 अप्रैल को खबर भी प्रकाशित की थी. रिपोर्ट के अनुसार, आजाद गौतम ने गांव के मंदिर में मूर्ति पर अपना पैर रखा था और इसकी तस्वीर फेसबुक पर पोस्ट कर दी थी. ग्रामीणों ने इसके खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया और उसका फोन जब्त कर लिया.

लिहाजा, वायरल पोस्ट में किया गया यह दावा गलत है कि तस्वीर में जो शख्स मूर्ति पर पैर रखे हुए दिख रहा है, वह मोहम्मद अंसारी नाम का मुस्लिम है. आरोपी की पहचान वाराणसी के निवासी आजाद कुमार गौतम के रूप में हुई है. उसे धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है.


खबर सब तक पहुंचाएं