कुंभ के कचरे से इलाहाबाद में महामारी फैलने की नौबत, एनजीटी ने दिया ये आदेश

नई दिल्ली: राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण (NGT) ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को प्रयागराज में कुंभ मेले के बाद जमा कचरे को हटाने के लिए तुरंत क़दम उठाने को कहा है.  जो हालात हैं वो बेहद खतरनाक हैं और गर कूड़ा सही समय पर सही तरीके से ठिकाने नहीं लगा तो इलाहाबाद में महामारी फैल सकती है.

डाउन टू अर्थ वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, NGT ने कहा है कि बसवार सॉलिड वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट में तकरीबन 60 हज़ार मिट्रिक टन ठोस कचरा जमा हो गया है. इसमें से तकरीबन 18 हज़ार मिट्रिक टन कचरा कुंभ से जमा हुआ, लेकिन यह प्लांट सिंतबर 2018 से ही बंद पड़ा है.

डायरिया, बुखार, वायरल हेपेटाइटिस और कॉलरा की बीमारी के ख़तरे का पूर्वानुमान लगाते हुए NGT ने कहा है कि तुरंत ज़िम्मेदार लोगों की जवाबदेही तय करने की ज़रूरत है ताकि महामारी फैलने से रोका जा सके.

NGT ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव को निर्देश दिया है कि इलाहाबाद में कुंभ मेले के बाद जमा हुए ठोस कचरे को निपटाने के लिए तत्काल क़दम उठाए जाएं और इस संबंध में अधिकारियों की जवाबदेही तय की जाए.

जस्टिस अरुण टंडन की अध्यक्षता वाली समिति की रिपोर्ट पर संज्ञान लेते हुए NGT ने कहा कि क्षेत्र में स्थिति ख़तरनाक है और इससे तत्काल निपटा जाना चाहिए जिससे कि महामारियों को फैलने से रोका जा सके.

NGT अध्यक्ष जस्टिस आदर्श कुमार गोयल के नेतृत्व वाली पीठ ने कहा कि ज़मीनी स्तर पर जवाबदेही तय की जानी चाहिए तथा वरिष्ठ स्तर के अधिकारियों द्वारा व्यक्तिगत निरीक्षण सुनिश्चित किया जाना चाहिए.

पीठ ने कहा, ‘हम निर्देश देते हैं कि ज़मीनी स्तर के अधिकारियों की जवाबदेही तय करने के लिए एक उचित निगरानी तंत्र स्थापित किया जाना चाहिए तथा मुख्य सचिव द्वारा जल्द से जल्द निरीक्षण के लिए ज़रूरी अधिकारियों का स्तर निर्धारित किया जाना चाहिए.’

पीठ ने यह भी कहा कि अच्छा होगा कि यह काम 26 अप्रैल से पहले कर लिया जाए, जिस दिन उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव के NGT के समक्ष पेश होने की उम्मीद है.

NGT ने कहा है कि इलाहाबाद में कुंभ मेले की तस्वीरें देखने के बाद वहां तत्काल प्रभाव से ठोस कचरे को हटाने, ड्रेनेज सिस्टम को ठीक करने और गंदे पानी के निस्तारण की उचित व्यवस्था करने की ज़रूरत है.

NGT ने यह निर्देश जस्टिस अरुण टंडन की एक रिपोर्ट का परीक्षण करने के बाद जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि इलाहाबाद के अरैल क्षेत्र में नदी के बहुत नज़दीक बड़ी संख्या में शौचालय का निर्माण कराया गया है.

इस रिपोर्ट में बताया गया है, ‘राजापुर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में उसकी क्षमता से ज़्यादा दूषित जल पहुंचा है. यहां सिर्फ़ 50 प्रतिशत गंदे पानी का ही शोधन हो पा रहा है, बाकी 50 प्रतिशत गंदा पानी बिना शोधन के ही गंगा में छोड़ा जा रहा है.’

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है, ‘सलोरी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में भी उसकी क्षमता से ज़्यादा गंदा पानी पहुंच रहा है. यह प्लांट भी संतोषजनक स्तर पर काम नहीं कर रहा है. यहां भी 50 प्रतिशत पानी का ही शोधन हो पा रहा है और बाकी का 50 प्रतिशत गंदा पानी सीधे गंगा में छोड़ा जा रहा है.’

इससे पहले NGT ने उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को इलाहाबाद में कुंभ मेले के दौरान पर्यावरण पर नज़र रखने का निर्देश दिया था.

NGT ने कहा था कि जिस तरह से यह धार्मिक कार्यक्रम बहुत बड़े पैमाने पर हो रहा है उसी तरह से लोगों को शिक्षित कर कचरे का उचित निस्तारण भी किया जाना चाहिए.

शहरी विकास और आवास मंत्रालय के अलावा दूसरे ज़िम्मेदार प्राधिकरणों को भी यह निर्देश दिया गया था कि वे पोस्टर, बैनर और पम्फलेट के माध्यम से कचरे के निस्तारण के बारे में लोगों को शिक्षित करें.