सात सांसदों के साथ जनता के सामने आए केजरीवाल, मारपीट की बात गलत है!!

अरविंद केजरीवाल आखिर करीब एक हफ्ते के इंतज़ार के बाद जनता के सामने आए. इससे पहले कहा जा रहा था कि केजरीवाल को उनके कुछ विधायकों ने बैठक के दौरान थप्पड़ मारा. आप के बागी विधायक कपिलमिश्रा ने पहले ट्वीट करके कहा था कि केजरीवाल को विधायकों ने पीटा है.

केजरीवाल के प्रेस कांफ्रेंस में आने का मतलब है कि मारपीट को लेकर कपिल मिश्रा का ट्वीट शरारत का नतीजा था.

केजरीवाल लोकसभा चुनाव के लिए घोषणापत्र जारी करने आए थे. लोकसभा चुनाव-2019 के मद्देनजर आम आदमी पार्टी (AAP) ने दिल्ली के लिए अपना घोषणा पत्र बृहस्पतिवार को जारी किया. पार्टी मुख्यालय में प्रेसवार्ता कर लोकसभा चुनाव के लिए घोषणा पत्र जारी करने के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भाजपा पर हमला भी बोला.

इस मौके पर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह लोकसभा चुनाव देश को बचाने का चुनाव है. पाकिस्तान भी यही चाहता है कि भारत के टुकड़े-टुकड़े को जाएं,  यही भाजपा कर रही है. पिछले 70 साल से दिल्ली के लोगों को यही टीस है कि उन्हें पूर्ण अधिकार मिले. इसमें दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने का मुद्दा प्रमुख रूप से शामिल है.

घोषणा पत्र में रोजगार, उच्च शिक्षा, महिला सुरक्षा समेत कई मुद्दों को घोषणा पत्र में शामिल किया गया है. पार्टी आम चुनाव में दिल्ली के प्रत्येक नागरिक को खुद का घर, दो लाख युवाओं को नौकरी, दिल्ली के कॉलेज में आसानी से दाखिले के लिए 85 फीसद आरक्षण, दिल्ली सरकार के अधीन पुलिस आने पर सुरक्षा की गारंटी, सीलिंग पर रोक समेत अनधिकृत कालोनियों में विकास करने का वादा किया जा रहा है.

दरअसल आम आदमी पार्टी दिल्ली को पूर्व राज्य का दर्जा देने की मांग को मुख्य चुनावी मुद्दा बनाया है. पार्टी का कहना है कि जब तक पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं मिलता तब तक दिल्ली की शासन व्यवस्था ठीक तरीके से चलाना मुश्किल है. बता दें कि अधिकारों को लेकर अक्सर उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार में ठनी रहती है.