भारत इस्रायल सौदे की टॉप सीक्रेट फाइल वेटर के पास मिली

इजराइल के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार के नेतृत्व वाले एक प्रतिनिधिमंडल से भारत के साथ रक्षा सौदे के गोपनीय दस्तावेज गायब हो गए, लेकिन किस्मत अच्छी थी कि एक वेटर की होशियारी की बदौलत उन्हें कागजात वापस मिल गए. एक मीडिया रिपोर्ट में बुधवार को यह जानकारी दी गई.

समाचार एजेंसी PTI के अनुसार इस साल जनवरी में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के कई सदस्यों के साथ सलाहकार मेर बेन शब्बात भारत गये थे. उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा NSA अजित डोभाल से मुलाकात हुई थी. इजराइल के स्थानीय अखबार दैनिक हारेत्ज के अनुसार शब्बात ने इस बैठक में दोनों देशों के बीच विभिन्न हथियार सौदों को लेकर चर्चा की थी.

इजराइल अपने सैन्य उपक्रम द्वारा विकसित कई उन्नत साजोसामान भारत को बेचना चाहता है. इनमें टोही विमान, ड्रोन विमान, टैंक-भेदी प्रक्षेपास्त्र, तोप और रडार प्रणालियां शामिल हैं.

शब्बात के सहयोगी ने इस यात्रा से पहले भारत के साथ संभावित रक्षा सौदे से संबंधित कई दस्तावेजों का प्रिंट लिया था. ये कागज गोपनीय श्रेणी में रखे गए थे. यह प्रतिनिधिमंडल विमान में चढ़ने से पहले एक रेस्तरां में खाना खाने गया और वे कागज वहीं छूट गये.

प्रतिनिधिमंडल के वहां से जाने के बाद एक वेटर को वे कागजात मिले और उसने एक मित्र को फोन किया जिसकी मां भारत में इजराइली दूतावास में काम करती थीं. वेटर का दोस्त विमान से भारत पहुंचा और अपनी मां को वे दस्तावेज सौंप दिए. फिर उन्हें दूतावास के सुरक्षा अधिकारी को सौंप दिया गया. जांच में पाया गया कि कागजात खोने से इजराइल की सुरक्षा को कोई नुकसान नहीं पहुंचा. रिपोर्ट के अनुसार शब्बात के सहयोगी को कागजात खोने का दोषी पाया गया और उसे चेतावनी दी गई.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.