अपराधों में टॉप पर है गाज़ियाबाद का इंदिरापुरम थाना, RTI से खुलासा

गाजियाबाद में यूपी के सबसे ज्यादा अपराध दर्ज हुए हैं. आरटीआई के जरिए ये खुलासा हुआ है. गाजियाबाद में भी इंदिरापुरम थाना अपराध में अव्वल है. जो भी हो पुलिस की दोहरी मुसीबत होती है. अगर एफआईआऱ दर्ज करे तो रिकॉर्ड खराब होता है. माना जाता है कि अपराध बढ़ रहे हैं नेता भी इससे नाराज़ होते हैं और सरकार में बैठे आला अफसर भी. अगर पुलिस एफआईआर दर्ज न करे तो लोग परेशान होते हैं और पुलिस की आलोचना होती है. पुलिस वालों के लिए भी पहला ही विकल्प ठीक रहता है क्योंकि मामला दर्ज नहीं होता तो काम का लोड भी कम हो जाता है.

बहरहाल गाजियाबाद पुलिस को बधाई देनी चाहिए कि उसके इलाके में अपराधों की रिपोर्ट लिखी जा रही है.

आरटीआई एक्टिविस्ट नूतन ठाकुर ने RTI दाखिल कर पूछा था कि सबसे अधिक अपराध के मामले कहां दर्ज हुए हैं. इस बाबत नूतन ठाकुर को डीपीपी ऑफिस ने जानकारी दी है कि 136 पुलिस स्टेशन में 500 से अधिक मामले आईपीसी की धाराओं में दर्ज हुए. इसमें ये भी बताया गया कि सबसे अधिक मामले गाजियाबाद में दर्ज किए गए. जिले के इंदिरापुरम थाना में 2,673 मामले, जबकि साहिबाबाद में 1,809 और कविनगर में 1,528 मामले दर्ज किए गए.

इसके बाद राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर में 1,421, गाजियाबाद के सिहानी गेट में 1136, वाराणसी के लंका थाने में 1,294, लखीमपुर खीरी के सदर कोतवाली में 1,212 मामले दर्ज किए गए. गोरखपुर के कैंट थाने में 1,186 मामले दर्दज किए गए जबकि जीबी नगर में भी 1,186 मामले दर्ज किए गए.

नूतन ठाकुर आईपीएस अमिताभ ठाकुर की पत्नी है जिन्होंने समाजवादी पार्टी की सरकार के दौरान विरोध का झंडा बुलंद किया था . इस मामले में खुद मुलायम सिंह ने अमिताभ ठाकुर को फोन पर धमकाया था . बाद में ये फोन भी वायरल हुआ. कहा जाता है कि बीजेपी के कहने पार अमिताभ ठाकुर ने मुलायम सिंह पर मोर्चा खोला था लेकिन वहां से भी वो नाउम्मीद हो गए.