हिंदू नेता का मोबाइल छीना, नहीं दिया तो हत्या, भड़काऊ राजनीति शुरू

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष रणजीत बच्चन की लखनऊ के पॉश इलाके में हुई हत्या से हड़कंप मचा हुआ है. लखनऊ पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने आरोपियों को पकड़ने के लिए छह टीमें गठित की है. इस घटना में रणजीत के भाई को भी गोली लगी है. उन्हें इलाज के लिए ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि रंजीत अपने मौसेरे भाई के साथ मॉर्निंग वॉक पर निकले थे. ग्लोब पार्क के पास शॉल ओढ़े शख्स ने उन्हें रोका और उनसे मोबाइल फोन छिनने की कोशिश की.

इस दौरान जब रंजीत और उनके भाई ने इसका विरोध किया तो अपराधियों ने उनपर गोली चला दी. एक गोली रंजीत बच्चन के सिर में लगी और वो वहीं ढेर हो गए. जबकि दूसरी गोली उनके मौसेरे भाई आदित्य के हाथ में लगी और वो जख्मी हो गए. कभी साइकिल यात्रा निकालने पर सम्मानित किये जाने वाले रंजीत बच्चन हिंदुओं के बड़े नेता थे और उनकी सियासी पहुंच भी काफी ऊंची थी.

उनकी हत्या के बाद हिंदू मुसलमान राजनीति करने वालों की भीड़ लग गई है लोग चाह रहे हैं कि तनाव फैले. समाजवादी पार्टी से जुड़े रहे बच्चन के घर के बाहर बीजेपी और संघ से जुड़े लोगों की भीड़ ज्यादा है.

उनकी हत्या के बाद उनके समर्थक भारी संख्या में हिंदू वादी.  नाराज समर्थक विरोध जताने के लिए नजदीकी थाने के बाहर भी जमा हुए थे. हालांकि पुलिस ने हत्यारों की गिरफ्तारी और जरुरी कार्रवाई का आश्वासन देकर उन्हें वहां से हटा दिया.