आरक्षण के पीछे ये है संघ की चाल, अमित शाह के मुंह से निकला सच

आरएसएस का प्लान सवर्णों के आरक्षण का कोटा बढ़ाने का है. 10 फीसदी आरक्षण के बहाने से अभी सिर्फ संविधान संशोधन के ज़रिए रास्ता खोला जा रहा है. संघ की इस चाल की पोल कल अमित शाह ने राज्यसभा में खोल दी. कल अचानकर रामगोपाल शर्मा के भाषण के दौरान अमित शाह ने वो कह दिया जो उन्हें नहीं कहना था.

इससे पहले दिनभर चली चर्चा के दौरान समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद रामगोपाल यादव जब अपनी राय रख रहे थे, तो इस बीच भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद अमित शाह ने बड़े संकेत दिए. अपने बयान में जब रामगोपाल यादव कह रहे थे कि जो फैसला सरकार ने लिया है, उसके दायरे में आने वालों की तादाद बहुत बड़ी है. 98 फीसदी उच्च जाति के गरीब लोगों को 10 फीसदी आरक्षण और 2 फीसदी अमीर सवर्णों को 40 फीसदी आरक्षण, यह कहां है समता का अधिकार?

ये भी पढ़ें :  गुजरात में ऊंची जातियों का आरक्षण गलत: हाईकोर्ट

इस पर अमित शाह ने अपनी सीट से ही कहा कि मेरिट वाले में कोई भी गरीब बच्चा भी आ सकता है फिर चाहे वह दलित हो या आदिवासी हो. अमित शाह के इस तर्क पर रामगोपाल यादव ने कहा कि अगर ऐसा है तो फिर संख्या और कम हो जाएगी. रामगोपाल यादव के इसी बिंदु पर अमित शाह ने कहा कि बढ़ाएंगे…बढ़ाएंगे….

ये भी पढ़ें :  मीडिया ने तोड़ी 70 साल पुरानी मर्यादा, जेल जा सकते हैं कई संपादक

अमित शाह के इस बयान को रामगोपाल यादव ने मानो कैच कर लिया और तुरंत हंसते हुए अमित शाह से कहा कि जब जवाब दें तो बताइएगा कि दायरा बढ़ाएंगे.

सदन में चर्चा के दौरान अमित शाह और रामगोपाल यादव के बीच बहस भी देखने को मिली. दरअसल, रामगोपाल यादव ने कहा कि जिन गरीबों को फायदा पहुंचाने की बात सरकार कर रही है, उन्हें इसका लाभ नहीं मिलेगा. उन्होंने इसके पीछे तर्क देते हुए कहा कि मेरिट का आंकड़ा आपने छोटा कर दिया और संख्या को बढ़ा दिया. इस पर अमित शाह ने जवाब दिया कि जब आप मुस्लिम आरक्षण की बात करते हैं तो क्या तब मेरिट की संख्या कम नहीं होती.

Spread the love

Leave a Reply