सरकार के सातवें दिन मोदी सरकार का एक झटका लेकिन दो तोहफे भी

मोदी सरकार के अभी सिर्फ सात दिन हुए हैं. लेकिन सरकार ने सातवें दिन ही एक झटका दे दिया है. हालांकि सरकार ने दो तोहफे भी दिए.

सातवें दिन का झटका

कार और दोपहिया वाहनों का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस (Third Party Insurance) 16 जून से महंगा हो जाएगा. बीमा नियामक इरडा ने वाहनों की कुछ श्रेणियों के लिए अनिवार्य थर्ड पार्टी इंश्योरेंस प्रीमियम में 21 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है. इतना ही नहीं कंप्रिहेन्सिव इंश्योरेंश (COMPREHENSIVE INSURANCE) लेने पर भी सरकार पहले ही लोगों को झटका दे चुकी है. नये नियम में सरकार बंद कर चुकी है कि गाड़ी के मालिक और ड्राइवर को इंश्योरेंस के लिए अब अलग से पैसे देने होते है.  सामान्य तौर पर, थर्ड पार्टी इंश्योरेंस प्रीमियम की दरों को एक अप्रैल से संशोधित किया जाता है. हालांकि, 2019-20 के लिए नई दरें 16 जून से लागू होगी

RBI ने रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की है. रेपो रेट में कटौती होने से बैंक सस्ती दर पर नए लोन देंगे और आपकी होम या ऑटो लोन की ईएमआई पहले के मुकाबले कम होने की उम्मीद है लेकिन इससे महंगाई भी बढ़ सकती है. इसलिए अगर आपने 30 लाख रुपये का होम लोन लिया हुआ है. वहीं, इसकी अवधि 20 साल है. मौजूदा दर 8.60 फीसदी के हिसाब से आपकी EMI 26,225 रुपये बैठती है. अब बैंक भी आरबीआई के बाद 0.25 फीसदी दरें घटाने का फैसला लेता है तो नई ब्याज दर 8.35 हो जाएगी. अब आपकी नई EMI 25,751 रुपये होगी. इस तरह से आप हर महीने 474 रुपये की बचत कर पाएंगे. लेकिन ये तब ही होगा जब बैंक अपनी ब्याज़ दरें.

RBI ने NEFT और RTGS के चार्ज हटाए

आरबीआई ने RTGS और NEFT पर बैंकों के साथ अपनी ओर से वसूले जाने वाले चार्जेस को पूरी तरह से हटा दिया है. इसका मतलब साफ है कि ग्राहक अब बैंकों की ओर से वसूले जाने वाले चार्जेस ही चुकाएंगे. ऐसे में RTGS और NEFT करना सस्ता हो जाएगा.

तीसरा तोहफा- ATM ट्रांजैक्शोन चार्ज होंगे खत्म

RBI की ओर से ATM ट्रांजैक्शरन चार्ज को लेकर भी बड़े फैसले लेने के संकेत दिए गए हैं. केंद्रीय बैंक ने बैठक में एक समिति का गठन करने का निर्णय लिया है. इस समिति के जरिए ATM शुल्क से जुड़े मामलों की समीक्षा की जाएगी.