पूर्व चीफ जस्टिस को भी लगा दिया 1 लाख का चूना, ठगों ने अपनाई ये तरकीब

साइबर ठगों की हिमाकत इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि वे सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज तक को निशाना बनाने से नहीं चूक रहे हैं. मामला सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज आरएम लोढा से जुड़ा हुआ है, जिन्हें ठगों ने उनके करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए ठग लिए. पुलिस ने आईपीसी की धारा 420 (धोखाधड़ी और बेईमानी से पैसे ऐंठना) के तहत केस दर्ज कर लिया है. फिलहाल, इस मामले में किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है.

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उन्हें अपने दोस्त सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस बीपी सिंह के ईमेल अकाउंट से एक ईमेल मिला था. जस्टिस लोढा ने बताया कि जस्टिस बीपी सिंह से अक्सर कई मुद्दों पर उनकी बातचीत होती रहती है. इस ईमेल में उन्होंने अर्जेंट मदद की मांग की थी.

जस्टिस लोढा के मुताबिक, ईमेल में लिखा था कि बातचीत के लिए ईमेल पर ही जवाब दें, क्योंकि वह (जस्टिस बीपी सिंह) फोन पर बातचीत नहीं कर सकते हैं. जस्टिस लोढा ने ईमेल पर रिप्लाई करके मामले की जानकारी मांगी और पूरी घटना बताने के लिए कहा.

जस्टिस बीपी सिंह के ईमेल अकाउंट से एक और ईमेल जस्टिस लोढा को मिला. इसमें लिखा था कि जस्टिस बीपी सिंह का चचेरा भाई गंभीर लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया से जूझ रहा है. वह उसका इलाज करा रहे हैं और उन्हें पैसों की सख्त जरूरत है.

इसके बाद जस्टिस लोढा को एक और ईमेल मिला, जिसमें 95 हजार से एक लाख रुपए तक सर्जन के बैंक अकाउंट में भेजने के लिए कहा गया. साथ ही, उन्हें बैंक अकाउंट की डिटेल भी भेज दी गई. जस्टिस लोढा ने 50-50 हजार की 2 किस्तों में एक लाख रुपए ईमेल में दिए गए बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दी. यह बैंक खाता दिनेश बाली के नाम पर था.

संबंधित बैंक खाते में पैसे भेजने के बाद जस्टिस लोढा को ठगी का एहसास हुआ. उन्हें लगा कि उनके दोस्त का ईमेल अकाउंट किसी ने हैक कर लिया है. इसके बाद उन्होंने पुलिस से मामले की शिकायत की. मालवीय नगर थाना पुलिस ने आईपीसी की धारा 420 के तहत केस दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी है.