नेपाल ने उत्तरी बिहार में छोड़ा मुसीबत का सैलाब, पता नहीं अब क्या होगा?

उत्तरी बिहार में नेपाल की तरफ से एक मुसीबत आने वाली है. बताया जा रहा है कि नेपाल ने वीरपुर बैराज के 56 में से 38 फाटक खोल दिए गए हैं, जिससे नदी के जलस्तर में जबरदस्त इजाफा हुआ है.

दरअसल वीरपुर बैराज नेपाल की सीमा में पड़ता है, जहां बैराज पर 56 गेट हैं. नदी का जलस्तर बढ़ने के बाद नेपाल की तरफ से गेट खोलकर पानी को बिहार की तरफ

प्रवाहित कर दिया जाता है. इसके चलते बिहार में बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं. वहीं यूपी में सरयू नदी के उफनाने से गोंडा जिले में बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं. जिले में फसलों को भारी नुकसान हुआ है और धान, सब्जी आदि की फसल तबाह हो गई है.

ये भी पढ़ें :  दुनिया के कई देशों में साइबर हमला, बैंक, पेट्रोलपंप और दफ्तर बंद, और भारत भी सेफ नहीं

नेपाल में भारी बारिश के बाद कोसी नदी के जलस्तर में जबरदस्त इजाफा हुआ है और वह खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. कोसी नदी में उफान के चलते बिहार में बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है. शुक्रवार सुबह से ही हो रही लगातार तेज बारिश ने हालात काफी खराब हो गए हैं.

यूपी बिहार के साथ ही असम में भी ब्रहमपुत्र नदी के जलस्तर में बढ़ोत्तरी के साथ ही बाढ़ का खतरा पैदा हो गया है. राज्य में बीते एक हफ्ते से लगातार बारिश हो रही है. वहां भी हालात को देखते हुए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के निर्देश दे दिए गए हैं.

ये भी पढ़ें :  बारिश से दिल्ली एनसीआर में तबाही, एक खबर में पूरी जानकारी

खगड़िया, मुजफ्फरपुर जिले में भी बाढ़ को लेकर हाई अलर्ट जारी हुआ है. प्रशासन ने 14 जुलाई तक के लिए अलर्ट जारी किया है. दरअसल कोसी, बागमती, गंगा और गंडक नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है.