पहली बार नासा के सेटेलाइट की मदद से सुलझी ट्रेन रॉबरी, 11 अपराधियों की पहचान हुई

ये भारत के इतिहास की पहली चोरी है जिसे नासा के सैटेलाइट की मदद से ठुकराया गया है. मामला ट्रेन डकैती का है जो सलेम स्टेशन पर  चेन्नई-इगमोर एक्सप्रेस में हुई थी. पुलिस ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा की मदद से इस मामले को सुलजा लिया है.. जिसकी मदद से ट्रेन लूट के दो साल बाद चोर पुलिस के हत्थे चढ़ गए. मामला दो साल पहले सलेम-चेन्नई इगमोर एक्सप्रेस में हुई 5.78 करोड़ रुपये की लूट का है. तमिलनाडु पुलिस ने ट्रेन लूट का मामला घटना के दो साल बाद नासा की मदद से सुलझा लिया है.

नासा की मदद से घटनास्थल की सैटेलाइट तस्वीरें मंगवाई गई. पुलिस की सीआइडी शाखा ने नासा की इन तस्वीरों को देखा और उसके आधार पर चोरों की तलाश शुरू की. जांच में पता चला कि डकैत मध्यप्रदेश और बिहार के थे. इस बीच संदिग्धों से भी पूछताछ की गई है.

जानकारी के मुताबिक, संदिग्ध आरोपियों को पकड़ने के लिए तमिलनाडु पुलिस मध्य प्रदेश पहुंच चुकी है. लूट के इस मामले में 11 अपराधियों के शामिल होने का शक है. कहा जा रहा है कि लुटेरों का यह गैंग उत्तर भारत में हुए कई अपराधों में भी शामिल रहा है. पुलिस ने दावा किया है कि लूटेरों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

गौरतलब है कि दो साल पहले ट्रेन लूट की यह घटना तक हुई जब ट्रेन सलेम और वृंदाचलम स्टेशनों के बीच सिग्नल मिलने का इंतजार कर रही थी. इसी का लुटेरों ने फायदा उठाया और ट्रेन की छत काटकर आरबीआइ के 5.78 करोड़ रुपए उड़ा ले गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.