बिहार चुनाव की तारीखों पर चुनाव आयोग का बड़ा एलान, पार्टियों की सिरदर्दी बढ़ी

बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों को लेकर आज चुनाव आयोग ने बड़ा एलान किया है. आयोग का कहना है कि चुनाव समय पर ही होगा. और किसी भी वजह से उसे टाला नहीं जाएगा. चुनाव आयोग ने मंगलवार को बैठक बुलाई है. इस बैठक में चुनाव की तारीखों पर व्यापक दिशानिर्देश तैयार किए जाएंगे. सबसे बड़ा मसला होगा कि कोविड 19 के मद्देनजर चुनाव कराने का तरीका क्या हो.

बिहार विधानसभा का कार्यकाल 29 नवम्बर को समाप्त होगा और अक्टूबर-नवम्बर में किसी समय चुनाव कराये जाने की संभावना है. कोरोना वायरस और बारिश के कारण हाल में कई उपचुनावों को टाल दिया गया था. अब तक चुनाव के किसी नये कार्यक्रम की घोषणा नहीं की गई है. इसके बावजूद चुनाव आयोग ने कहा है कि वो समय पर ही चुनाव कराएगा. इस फैसले से सबसे ज्यादा सिर्दर्द पार्टियों का बढ़ गया है क्योंकि उन्हें तैयारियों के लिेसमय नहीं मिलेगा.

बैठक में चुनाव आयोग कोविड-19 महामारी के दौरान चुनाव कराने के लिए तीन दिनों के भीतर ‘‘व्यापक’’ दिशानिर्देश तैयार करेगा. आयोग ने एक बयान में कहा कि ‘‘कोविड-19 अवधि’’ के दौरान चुनाव और उपचुनाव के लिए व्यापक दिशानिर्देश जारी करने के मामले पर मंगलवार को आयोग की बैठक में चर्चा की गई.

ये भी पढ़ें :  लालू की पार्टी ने की भाजपा बचाने की अपील, जगन्नाथ मिश्र खुश हुए !

आयोग ने राजनीतिक दलों द्वारा दिए गए विचारों और सुझावों पर विचार किया. उसने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों द्वारा दिए गए सुझावों और सिफारिशों पर भी विचार किया.

बयान में कहा गया है, ‘‘इन सभी पर विचार करने के बाद, आयोग ने तीन दिनों के भीतर व्यापक दिशानिर्देश तैयार करने का निर्देश दिया.’’

आयोग ने यह भी निर्देश दिया कि इन दिशानिर्देशों के आधार पर, चुनाव कराने वाले राज्यों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को चुनावों के दौरान स्थानीय परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कोविड-19 से संबंधित उपायों के लिए संबंधित राज्य या जिले के लिए एक व्यापक योजना तैयार करनी चाहिए.

चुनाव आयोग की तैयारियों के बीच चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. हालांकि राष्ट्रपति ने उनका इस्तीफा स्वीकार किया है या नहीं इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है. उन्होंने राष्ट्रपति से 31 अगस्त तक उन्हें पद से मुक्त करने की गुजारिश की है.

आज के युवा सोशल मीडिया (Social Media) पर अधिक समय बिताते हैं. कोरोना वायरस (Corona Virus) से बचाव के लिए लागू हुए लॉकडाउन में तो यह संख्‍या और भी बढ़ी है. लोग या तो वर्क फ्रॉम होम के दौरान डेस्‍कटॉप या लैपटॉप से या फिर खाली समय में स्‍मार्टफोन या टैब से चिपके रहते हैं. कोरोना काल में लोग सोशल मीडिया के ज़रिए दोस्तों और रिश्‍तेदारों से जुड़ने की कोशिश करते हैं. ऐसे में डेटा लीक (data leak) की खबरों में तेजी आई हैं, जिससे काफी यूजर डरे हुए हैं. हालांकि थोड़ी सी सावधानी से फेसबुक अकाउंट को सेफ रखा जा सकता है. हम आपको ऐसे दो तरीके बताएंगे.

ये भी पढ़ें :  नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु के इससे ज्यादा क्या सबूत चाहिए, अबतक सीक्रेट रखी गई थी ये रिपोर्ट

प्राइवेसी शॉर्टकट के जरिए फेसबुक पर आप अपने डेटा को कंट्रोल कर सकते हैं. Settings और उसके बाद Privacy टैप करके आप यह तय कर सकते हैं कि फेसबुक कैसे और कहां इस डेटा का इस्तेमाल करेगा. यूज़र्स अपना लोकेशन डेटा, कॉन्टैक्ट्स, फेस रेकॉग्निशन सेटिंग, ऐड प्रेफरेंस जैसी चीजों को मैनेज कर सकते हैं.

पासवर्ड के अलावा आप फेसबुक में टू-फैक्टर ऑथेन्टिकेशन सुविधा का भी लाभ उठा सकते हैं. मसलन अगर कोई आपकी अकाउंट से लॉगइन करने की कोशिश करेगा तो आपके नंबर पर एक कोड आएगा, जिसे फीड किए बिना लॉगइन नहीं होगा. इसलिए आपकी आईडी आपको छोड़कर कोई और ओपन नहीं कर पाएगा.