कभी मास्क न लगाने वाले इस राष्ट्रपति में निकला कोरोना, अब करवा रहे हैं इलाज़

खबर सब तक पहुंचाएं

कभी मास्क लन लगाने वाले और कोरोना को मामूली फ्लू मानने वाले ब्राजील के राष्ट्रपति के अंदर कोरोना का वायरस पाया गया है. राष्ट्रपति जाएर बोलसोनारो के कोरोना वायरस टेस्ट का नतीजा पॉज़िटिव आया है. तेज़ बुख़ार और कोरोना संक्रमण के दूसरे लक्षण पाए जाने के बाद सोमवार को चौथी बार उनका कोरोना टेस्ट किया गया था.

इसी साल 11 मार्च में बोलसोनारो ने कहा था कि, “जितना मैं अब तक समझ पाया हूं कोरोना वायरस की बजाय कई तरह के दूसरे फ्लू हैं जिसकी वजह से अधिक लोगों की मौत हुई है.”

इससे पहले कोरोना से जुड़े स्थानीय नियमों का उल्लंघन करते हुए बिना मास्क के वे कई सार्वजनिक आयोजनों में शरीक हो चुके थे. कोरोना पर अर्थ व्यवस्था से खिलवाड़ करने के लिए वो अपने स्वास्थ्य मंत्री की छुट्टी भी कर चुके हैं.

बोलसोनारो कोरोना को लेकर कभी गंभीर नहीं रहे. वो इसे ‘सामान्य फ्लू’ कह चुके हैं और वो इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन लगाने के भी विरोध में रहे हैं. यहां तक कि उन्होंने प्रांतीय गवर्नरों से भी अपील की कि वो लॉकडाउन में राहत दें क्योंकि इसका बुरा असर देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा.

ये भी पढ़ें :  अब भारत में भी पांच मिनट में होगा करोना का टेस्ट, ये कंपनी कर रही है शुरुआत

हालांकि इस सप्ताह सोमवार को उन्होंने मास्क लगाने से जुड़े नियमों में बदलाव किया था. बोलसोनारो ने ब्राज़ील में सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहनने को अनिवार्य कर दिया था.

रविवार को देश के विदेश मंत्री अर्नेस्टो अराउजो ने सोशल मीडिया पर एक तस्वीर पोस्ट की थी जिसमें वो राष्ट्रपति बोलसोनारो और दूसरे नेताओं के साथ हैं.

ब्रीसिलिया में मौजूद अमरीकी दूतावास में ली गई इस तस्वीर में साफ देखा जा सकता है कि किसी भी नेता ने न तो मास्क पहना है न ही सोशल डिस्टेन्सिंग के ही नियमों का पालन किया गया है.

हालांकि बोलसोनारो ने अपने कोरोना पॉज़िटिव होने की जानकारी प्रेस कांफ्रेंस करके दी और उनके इस कांफ्रेंस में सोशल डिस्टेंसिंग के प्रावधानों का पालन नहीं किया गया था, जिसको लेकर ब्राज़ीली सोशल मीडिया पर लोग कमेंट भी कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें :  विज्ञान मंत्रालय ने कहा 2021 तक नहीं आएगी वैक्सीन, सरकार ने ही गलत बता दिया

वहीं 20 मार्च को उन्होंने कहा कि अगर मुझे इस वायरस ने संक्रमित कर भी दिया तो मैं इस मामूली फ्लू के कारण हार नहीं मानूंगा.

अप्रैल में तो उन्होंने यह तक कह दिया था कि अगर उन्हें “कोरोना संक्रमण हुआ भी तो उन्हें इसकी परवाह नहीं होगी क्योंकि अधिक से अधिक उन्हें वैसा अनुभव होगा जैसा सर्दी जुकाम होने पर होता है.”

जिस वक्त उन्होंने ये बयान दिया था उस वक्त ब्राज़ील में कोरोना संक्रमण के मामले केवल 40,000 थे और यहां कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा 3,000 से कम था.

लेकिन यहां कोरोना के मामले तेज़ी से बढ़ना शुरू हुए. अब कोरोना संक्रमण के मामले में ब्राज़ील दुनिया में दूसरे नंबर पर है.

जॉन्स हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी के डैशबोर्ड के अनुसार यहां कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या अब 1,623,284 हो गई है जबकि 65 हज़ार से अधिक लोगों की मौत इस कारण हुई है.


खबर सब तक पहुंचाएं