कोरोना लॉकडाउन में भूख से पहली मौत, घर में नहीं था अनाज का एक भी दाना

कोरोना पर लॉक डाउन के लागू करने के बाद भूख से मौत की पहली खबर सामने आ गई है.  बिहार के भोजपुर जिले के आरा में 11 साल के एक दलित बच्चे की भूख से मौत की खबर है. इस मामले में यहां के डीएम ने चिकित्सीय जांच के आदेश दिए हैं. मृतक लड़के का नाम राहुल बताया जा रहा है.

मुताबिक राहुल आरा के जवाहर टोला का रहने वाला है. बीते शुक्रवार (27-03-2020) को उसकी मौत हो गई है. कहा जा रहा है कि इस लड़के ने एक हफ्ते से कुछ भी नहीं खाया था.

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक मृतक राहुल के पिता दैनिक मजदूर हैं और लॉकडाउन होने की वजह से फिलहाल वो बेरोजगार हो गए हैं. स्थानीय वार्ड काउंसलर सत्यदेव राम का कहना है कि ‘हम जब परिवार वालों के पास पहुंचे तो वहां अनाज का एक दाना भी नहीं था. लड़के के मरने से पहले उसके परिजनों ने हमसे संपर्क नहीं किया था.’ यहां के पार्षद और CPI-ML नेताओं का कहना है कि लड़के की मौत भूख की वजह से हुई है.

वहीं CPI-ML के जिला सचिव जवाहरलाल सिंह का कहना है कि ‘जवाहर टोला में 35 दलित परिवार रहते हैं और इनके घर आय का मुख्य स्त्रोत दैनिक मजदूरी ही है. जब से लॉकडाउन किया गया है तब से कई लोगों के पास खाने-पीने के सामानों की कमी हो गई है. लड़की की मौत भूख से हुई मौत की तरह लगती है.’


हालांकि इस बीच ‘The Indian Express’ ने भोजपुर जिले के डीएम रोशन कुशवाहा के हवाले से लिखा है कि ‘हमने इस मामले में नगर आय़ुक्त से बातचीत की है और उन्होंने बच्चे की मौत भूख से होने की बात से इनकार कर दिया है.’ बहरहाल इस मामले में अभी जांच जारी है.