भारत में दूरंतो ने तोड़ा रफ्तार में बुलेट ट्रेन का रिकॉर्ड, वर्ल्ड रिकॉर्ड में थोड़ा ही पीछे

नई दिल्ली : हो सकता है कि आपको पता हो कि 574.8 की रफ्तार से दौड़ने वाली ट्रेन फ्रांस की संघई मगलेव दुनिया की सबसे तेज़ चलने वाली ट्रेन है. लेकिन आपको ये कतई नहीं पता होगा कि भारत की इलाहाबाद दूरंतो एक्सप्रेस इससे कहीं भी पीछे नहीं है. सीएजी की रिपोर्ट में मोदी सरकार की ट्रेनों के समय पर चलने के आंकड़ों की पोल खुली है. भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) द्वारा भारतीय रेल का ऑडिट करने पर यह बात सामने आई कि अधिकारी कागजों पर 409 किलोमीटर की हाईस्पीड से ट्रेनें दौड़ा रहे हैं.

 

यह बुलेट ट्रेन की स्पीड (320 किलोमीटर/प्रतिघंटा) से बहुत ज्यादा है. इकॉनोमिक टाइम्स के मुताबिक अधिकारियों ने कागज पर इलाहाबाद से फतेहपुर के बीच 116 किलोमीटर का सफर मात्र 17 मिनट में दर्ज कराया है. दरअसल लेट चल रही ट्रेन को समय पर दिखाने के लिए रेलवे अपने रिकॉर्ड में झूठ भर रही है और सीएजी ने उसे पकड़ लिया.

 

सीएजी ने जब यूपी के ट्रेनों के डाटा की ऑडिटिंग की तो पता चला कि प्रयाग राज एक्सप्रेस, जयपुर-इलाहाबाद एक्सप्रेस और नई दिल्ली-इलाहाबाद दुरंतो एक्सप्रेस के डाटा में कई खामियां हैं. सीएजी की रिपोर्ट ने इंटिग्रेटेड कोचिंग मैनेजमेंट सिस्टम (आईसीएमएस) की कार्यप्रणाली पर बड़े सवाल खड़े किए हैं. आईसीएमएस ही देशभर की ट्रेनों के समय पर चलने की निगरानी और रेल संचालन का रियल टाइम डाटा फीड करता है.

 

सीएजी रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2016-17 में प्रयाग राज एक्सप्रेस, जयपुर-इलाहाबाद एक्सप्रेस और नई दिल्ली-इलाहाबाद दुरंतो एक्सप्रेस क्रमश: कुल 354, 343 और 144 दिन चले. तीनों ट्रेनों ने फतेहपुर और इलाहाबाद के बीच की 116 किलो मीटर की दूरी औसतन 53 मिनट से कम समय में पूरी की है वो भी एक दिन नहीं बल्कि क्रमश: 25, 29 और 31 दिन, जबकि रेलवे के अधिकारी कहते हैं कि 130 किलो मीटर प्रति घंटे की स्पीड की दर से इसे 53 मिनट में पूरा किया जाना चाहिए.

 

सीएजी की रिपोर्ट कहती है कि कागजों पर दर्ज आंकड़ों के मुताबिक 9 जुलाई, 2016 को इलाहाबाद दुरंतो एक्सप्रेस फतेहपुर जंक्शन पर सुबह 5.53 बजे पहुंची जबकि इलाहाबाद जंक्शन पर यह ट्रेन सुबह 6.10 बजे पहुंची. यानी 116 किलो मीटर की दूरी इस ट्रेन ने 409 किलो मीटर प्रति घंटे की स्पीड से मात्र 17 मिनट में तय की है.

 

बता दें कि दिल्ली-हावड़ा रेलखंड पर अक्सर ट्रेनें लेट चलती हैं. खासकर इलाहाबाद से मुगलसराय और इलाहाबाद से कानपुर के बीच ट्रेनों घंटों-घंटों रेंगती रहती है. लिहाजा, अपने गंतव्य पर ट्रेनें कई घंटे की देरी से पहुंचती है. इस बात की भी शिकायत की गई थी कि ट्रेनों गंतव्य पर लेट से पहुंचती हैं लेकिन रेलवे सिस्टम में उसे समय पर या कम देरी से पहुंचा हुआ बताया जाता है. यानी सीएजी रिपोर्ट ने उन शिकायतों पर मुहर लगा दी है.