CAA समर्थक गुंडे दिल्ली के गर्ल्स कॉलेज में घुसे, घंटों तक लड़कियों से यौन छेड़छाड़, दबा दिया गया मामला

दिल्ली के गार्गी कॉलेज (gargi college) में दिल्ली विधानसभा में मतदान से दो दिन पहले कथित सीएए (CAA) समर्थकों की एक भीड़ घुस गई और उसने कई घंटे तक लड़कियों के साथ जो चाहा किया. आरोप है कि चुनाव बीजेपी की बदनामी न हो जाए इसलिए चुनाव के कारण मामले को दबा दिया गया था. मामले की रिपोर्ट तक नहीं लिखाई गई / लिखी गई.   मामले पर कॉलेज प्रशासन, दिल्ली पुलिस और बीजेपी मौन हैं.

इंडिया टुडे डॉट इन से बात करते हुए एक छात्रा ने कहा कि जब वे इस मामले की शिकायत लेकर कॉलेज प्रशासन के पास गए तो कॉलेज की ओर से कहा गया कि अगर उन्हें सुरक्षा को लेकर इतनी चिंता है तो उन्हें कार्यक्रम में नहीं आना चाहिए.

मामले में पीड़ित छात्राओं ने मीडिया, पुलिस और कॉलेज प्रशासन से नाराज होने के बाद सोशल मी़डिया का सहारा लिया. इसके बाद घटना के बारे में लोगों को पता चला. अब भी प्रशासन हाथ पर हाथ धरे बैठा है.

वेबसाइट ने गार्गी कॉलेज की छात्राओं के हवाले से खबर दी है कि 6 फरवरी को शराब पीकर कुछ बाहरी लोग कॉलेज कैंपस में घुस गए. उन्होंने लड़कियों के साथ छेड़खानी और बदतमीजी की. गार्गी कॉलेज की लड़कियों का कहना है कि 3 दिनों तक चलने वाले फेस्टिवल ‘Reverie’ के दौरान यह हादसा हुआ. इन लड़कों ने लड़कियों को वॉशरूम में किया बंद, सामने मस्टरबेट किया.

गार्गी कॉलेज दिल्ली के सबसे प्रतिष्ठित कॉलेज में से एक है और जब सीएए और मोदी के ये अधेड़ समर्थक कॉलेज में घुसे उस समय कॉलेज फेस्ट चल रहा था. छात्राओं ने कहा कि बाहरी लोग कॉलेज का खुले आम अंदर आ गए लड़कियों को जबरन दबोचा, उन्हें बाथरूम में बंद कर दिया और उनके साथ बदतमीजी की.

छात्राओं का आरोप है कि जो लोग कॉलेज के अंदर घुसे वे नजदीक में ही CAA के समर्थन में रैली कर रहे थे. गार्गी कॉलेज की एक छात्रा ने एक ट्वीट में लिखा, “अधेड़ किस्म के कुछ शराब पीए हुए मर्द हमारे साथ बदतमीजी कर रहे थे. उन्होंने हमारे सामने छेड़छाड़ की और हमारे सामने मस्टरबेट किया. मुझे कुछ लोगों ने भीड़ में तीन बार दबोच लिया…और जब मैं चिल्लाई तब वे हंस रहे थे.”

इंडिया टुडे डॉट इन ने लिखा है कि नाम छुपाने की शर्त पर एक लड़की ने उन्हें बताया कि कहा, “वे लोग ट्रक में आए और शाम को फेस्ट के दौरान कैंपस में घुस गए. वे कई घंटों तक लड़कियों से बदमाशी करते रहे.”

एक दूसरे पोस्ट में लिखा गया, “लड़कियों को दबोचा गया, उन्हें वाशरूम में बंद कर दिया गया, ग्रीन पार्क मेट्रो तक पीछा किया गया. उनके साथ बदतमीजी की गई. गार्गी कॉलेज प्रशासन ने इस मामले में अबतक शिकायत दर्ज नहीं करवाई है. समाचार एजेंसी आईएएनएस से बातचीत में एक छात्रा ने कहा, “मैं छेड़छाड़ के बारे में कुछ नहीं कह सकती हूं, लेकिन शराब पीकर बड़ी संख्या में लोग अंदर आ गए और छात्राओं के साथ बदतमीजी की.

गर्ल्स का आरोप है कि यह स्टूडेंट्स नहीं थे और इनमें से इनमें से कई ने शराब पी हुई थी. इन्होंने लड़कियों के साथ अश्लील हरकतें की, यहां तक कि मेट्रो पीजी तक उनका पीछा किया. एक स्टूडेंट से बताया कि पास चेक नहीं किए गए. लोगों की कार तक आने दी गई. प्रशासन ने जरूरी कदम नहीं उठाए. कुछ का कहना है कि यूनियन की भी लापरवाही रही. कुछ स्टूडेंट्स का कहना है कि वह इसके खिलाफ प्रदर्शन करने की भी तैयारी कर रहे हैं.

सिरी फोर्ट रोड स्थित गार्गी कॉलेज के कुछ स्टूडेंट्स ने फेस्ट की शाम को लेकर अपने अनुभव सोशल मीडिया में भी साझा किए हैं. लड़कियों ने बताया कि जो आदमी अंदर घुसे, उनमें से कुछ ने अपनी शर्ट उतार दी, अश्लील इशारे किए. दीवारों पर चढ़ गए और लड़कियों पर कमेंट करने लगे. स्टूडेंट्स ने कॉलेज की यूनियन और प्रशासन से मांग की है कि इस मामले में जल्द से जल्द एक्शन लिया जाए. स्टूडेंट्स का यह भी कहना है कि गार्गी कॉलेज के आसपास नेटवर्क की बड़ी समस्या है क्योंकि कुछ इलाके में जैमर लगे हैं. इस वजह से उस रात स्टूडेंट्स मदद नहीं ले पाईं. कुछ लड़कियों ने बताया कि कुछ स्टूडेंट ने भीड़ को संभालने की कोशिश की.