बेईमान बिल्डर की अकड़ से नाराज़ बायर्स ने घरों पर पोस्टर लगाए

सरकार के बड़े बड़े वादों के बावजूद दिल्ली एनसीआर में बिल्डरों की मनमानी रुकने का नाम नहीं ले रही है. नोएडा के सेक्टर 75 के एपेक्स एथेना के खरीदारों को आज फिर बिल्डर की सीनाजोरी का झटका झेलना पड़ा. हुआ ये कि इस सोसायटी में जब भी बारिश होती थी सोसायटी में पानी भर जाता था. बेसमेंट लबालब भर जाते थे लेकिन बिल्डर जल भराव की समस्या से निपटने के लिए न तो पंप का इँतजाम कर रहा था न लीकेज रोकने के लिए कुछ कर रहा था. पहले से ही 9 साल से परेशान हो रहे बायर्स का सब्र का बांध टूट गया.

बायर्स ने अपने घरों पर बैनर लगा दिए . बैनर्स पर लिखा था काम अधूरा पेमेन्ट पूरा. इसके बाद बिल्डर ने सारी हदें पार कर दी. उसने जिन घरों में बैनर लगे थे सबका बिजली का कनेक्शन काट दिया. इसके बाद बायर्स मैदान में आ गए.

क्या है होम बायर्स का आरोप

बायर्स का कहना है कि पहले तो बिल्डर ने 2016 तक सभी को घऱ का कब्जा देने का वादा किया था. आजतक कब्जे का कोई पता नहीं है न तो प्रोजेक्ट का कंप्लीशन हुआ है न ऑक्युपेंसी सर्टिफिकेट मिला है. ऊपर से बिल्डर अधूरे फ्लैट के लिए स्टांप पेपर खरीदने के लिए दबाब डाल रहा है. जबकि हालत बेहद खराब है. कभी भी बिजली उड़ जाती है. पानी बेहद खराब और खारा मिल रहा है. सीवर ट्रीटमेंट प्लांट बंद पड़ा है. पूरे बेसमेंट में ड्रेनेज पाइप से पानी बहता रहता है. सोसायटी के पार्क की पूरी घास पानी भरने से सड़ चुकी है. और तो और लोगों के घर में भी एक एक फुट पानी भऱ जाता है.

बायर्स का कहना है कि बिल्डर ने मकानों के साइज नापने में भी बेईमानी की है. और सोसायटी में तीन एक्स्ट्रा फ्लोर बना लिए हैं जिनके लिए बायर्स से एनओसी नही ली गई. इन फ्लोर्स के बनने के कारण जो फ्लोर एरिया रेशियों के गणित से फ्लैट का सुपर एरिया कम हो जाना था उसका भी फायदा बायर्स को नहीं मिला है.

एपेक्स एथिना सोसाइटी के ज्वाइंट सेक्रेटरी राहुल सिन्हा कहते हैं कि प्रोजेक्ट में अभी काफी काम बाकी है. पूरी सोसाइटी में लीकेज की समस्या है. STP यानी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट काम नहीं कर रहा है. बारिश होने से बेसमेंट में पूरी तरह पानी भर जाता है. लॉबी में लाइट्स नहीं है. ऐसे में भयानक बीमारियों के फैलना का डर है. 

बायर आर के चव्हाण ने बताया कि पिछले 3 साल से बिल्डर के साथ 50 मीटिंग कर चुके हैं लेकिन अभी तक मिले हैं तो झूठे आश्वासन. हर बार बिल्डर नई तारीख दे देता है और वादा करता है कि काम को जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा. बायर्स ने कई बार बिल्डर से काम पूरा करने की गुहार लगाई है लेकिन अभी तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकला है. प्रोजेक्ट में करीब 2-3 साल की देरी है.  फिलहाल यहां झूठ बोलकर बिल्डर ने 350 परिवारों को कबज़ा दे दिया है. 6 टॉवर में अभी भी काफी काम होना बाकी है. फिनशिंग के नाम पर बिल्डर ने काम पूरा नहीं किया है. इस बाबत नोएडा अथॉरिटी को कई बार पत्र लिख चुके हैं. अभी तक किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई है.  

बायर्स ऑफ द रिकॉर्ड कहते हैं कि बिल्डर की अथारिटी में काफी पैठ है. एक पार्टनर का भतीजा शराब पीकर सोसायटी में घूमता रहता है और बेहद असभ्य तरीके से पेश आता है.

सोसाइटी के प्रेसीडेंट वरुण मित्तल का कहना है कि बिल्डर को अभी 1 हफ्ता पहले ही बिजली का कनेक्शन मिला है और बिल्डर 9-10/यूनिट चार्ज करने की बात कह रहा है. पेमेंट नहीं करने पर मर्जी से बिल्डर फ्लैट की बिजली काट देता है जिसकी वजह से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

बिल्डर ने बिजली और मेंटिनेंस को प्रीपेड मीटर से कनेक्ट कर दिया है जो कि पूरी तरह से गलत है. मेंटिनेंस के नाम पर भी ज्यादा पैसे वसूले जा रहे हैं. फिलहाल 2.50/Sq ft का चार्ज लेने की बात की जा रही है जबकि सुविधाओं को अभी पूरी तरह से टोटा है.

कब लॉन्च हुआ प्रोजेक्ट

2011 में नोएडा के सेक्टर 75 में एपेक्स एथिना प्रोजेक्ट की बुकिंग की गई थी और इसे ऑफिशियल तरीके से 2013 में लॉन्च किया था. बिल्डर ने 2016 में पजेशन का वादा किया था. लेकिन पजेशन अब तक नहीं मिला है और आगे भी बायर्स को उम्मीद कम ही है