13 साल की बच्ची से रेप के बाद आंखें निकालीं, जुबान काटी, गला बांधकर घटीसा और मारकर फेंक दिया

उत्तर प्रदेश का जंगल राज अपराध की राजधानी के तमगे से भी आगे निकल चुका है. ये निर्भया रेप से भी खौफनाक मामला है. यूपी में निर्भया कांड से भी बड़ा कांड हुआ है. यहां तेरह साल की दलित बच्ची के साथ गैंगरेप हुआ, रेप के बाद उसकी आंखें फोड़ दी गई. जीभ काट दी गई ताकि कुछ बोल न सके और उसके गले में फंदा डालकर उसे खेत में घसीटा गया ताकि मर जाए लखीमपुर खीरी के ईसानगर की ये लड़की लाश बन चुकी है. मां बाप जानते हैं कि ये किसका काम है. उन्होने ही पुलिस को जानकारी दी.

परिवार वालों को हादसे का पता ही न चलता अगर उन्होंने गांव गांव जाकर खुद अपनी बच्ची को न खोजा होता. तलाश खत्म हुई तो पाया गया कि बच्ची की लाश गन्ने के खेत में फेंक दी गई थी. अब मामले पर पुलिस का बयान पढ़िए. पुलिस ने घटनास्थल से शव को कब्जे में लिया और पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. रिपोर्ट में गैंगरेप की पुष्टि हुई, जिसके बाद पुलिस ने दो लोगों को हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया है.

ये भी पढ़ें :  एक्सप्रेसवे पर चालीस मुसाफिरों भरी बस में रेप ऐसे पकड़ा गया अपराधी

निर्भया से भी खौफनाक रेप

लखीमपुर खीरी जिले में ईसानगर थाना क्षेत्र के पकरिया गांव की 13 साल की मासूम बच्ची अपने घर से शौच के लिए खेत गई थी. तभी गांव के ही रहने वाले दो युवकों ने नाबालिग बच्ची के साथ रेप किया और उसकी हत्या कर दी. मौत से पहले बच्ची को असहनीय पीड़ा दी गई. उसकी आंख फोड़ी गई, उसकी जुबान काट दी गई और उसके गले में फंदा डालकर उसे घसीटा गया. बाद में आरोपी शव को गन्ने में फेंककर घटनास्थल से फरार हो गए.

13 साल की यह मासूम बच्ची 14 अगस्त को दोपहर करीब एक बजे अपने घर से शौच के लिए गन्ने के खेतों की तरफ गई थी, लेकिन देर रात तक जब वह वापस घर नहीं लौटी तो उसके परिवार वालों ने बच्ची की तलाश शुरू कर दी. उन्होंने पुलिस को भी इस बात की जानकारी दी. परिजन, पुलिस की टीम के साथ बच्ची की तलाश करने खेत की ओर बढ़े. तभी गन्ने के खेत में मासूम बच्ची का शव बरामद हुआ.

ये भी पढ़ें :  'दैनिक भास्कर के संपादक कल्पेश याग्निक की आत्महत्या नहीं हत्या हुई थी' , गहरी साजिश का आरोप

गांव के दो युवक गिरफ्तार

परिजनों ने गांव के ही रहने वाले संतोष यादव और संजय गौतम पर बच्ची के साथ रेप और हत्या का आरोप लगाया है. पुलिस ने बच्ची के परिजनों द्वारा दी गई तहरीर के आधार पर दोनों युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर, बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

15 अगस्त को पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में बच्ची के साथ गैंगरेप की पुष्टि हुई है. जिसके बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ हत्या और गैंगरेप का मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है, साथ ही NSA के तहत कार्रवाई शुरू कर दी है. गौर करने की बात ये है कि पोस्को एक्ट नहीं लगाया गया है जबकि बच्ची नाबालिग थी.