ये बीजेपी नेता का बारिश पठान को जवाब, गोधरा भूल गए, लेकिन हर तरफ चुप्पी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता वारिस पठान की 15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे वाला बयान दिया तो मुसलमानों ने उनकी सिर्फ निंदा ही नहीं की बल्कि उनकी गर्दन काटने पर इनाम भी रख दिया लेकिन दो दिन बाद ही एक बेहद आपत्तिजनक बयान आया है. इस बयान में मुसलमानों के लिए नफरत तो है ही बीजेपी के दंगों में शामिल होने की बाद भी कही गई है लेकिन पार्टी चुपहै.

महाराष्ट्र के बीजेपी विधान परिषद के सदस्य और पार्टी के प्रवक्ता, गिरीश व्यास ने कहा कि गुजरात में जो कुछ हुआ उसे उन्हें नहीं भूलना चाहिए. इसके अलावा उन्होंने मुस्लिम समुदाय से पठान जैसे लोगों का बहिष्कार करने और ‘उन्हें सबक सिखाने’ की अपील की है.

व्यास ने एक टीवी चैनल से बातचीत के दौरान कहा, ‘ इस देश के युवा, देभभक्त और भाजपा का प्रत्येक युवा वारिस पठान को उसी भाषा में जवाब दे सकता है जैसा उन्होंने इस्तेमाल किया है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम बहुत सहिष्णु और धैर्यवान हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम इससे निपट नहीं सकते हैं. क्या गुजरात के कालुपुर में जो हुआ था, वह याद है.

अगर उसे याद रखें…तो मेरा विश्वास है कि मुस्लिम आज उठने की कोशिश का साहस नहीं करेंगे.’’ व्यास गुजरात में गोधरा के बाद वाले 2002 के दंगे का हवाला दे रहे थे . इस दंगे में 1,000 से ज्यादा लोग मारे गए थे जिनमें ज्यादातर अल्पसंख्यक समुदाय से थे.

उन्होंने कहा, ‘‘ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को पठान के खिलाफ राजद्रोह की कार्रवाई करनी चाहिए और भारत सरकार को उसे पाकिस्तान भेज देना चाहिए.’’ नागपुर के रहनेवाले व्यास ने पठान को इस शहर आने की चुनौती दी. उन्होंने कहा, ‘‘हम आपके लिए सही व्यवस्था करेंगे कि क्या आप यह समझते हैं कि हमने चूड़ियां पहन रखी हैं? हम आप से निपटने के लिए तैयार हैं, लेकिन हम यह चाहते हैं कि समाज में आपसी भाईचारा बना रहे.’’

इससे पहले सोशल मीडिया में वारिस पठान के बयान को लेकर लोगों में इस कदर नाराजगी थी कि ट्विटर पर बकायदा वारिस पठान पागल है का हैशटैग ट्रेंड कर रहा है. लोग इस हैशटैग के साथ AIMIM नेता की बातों का जमकर विरोध कर रहे हैं.

बड़ी संख्या में मुसलमानों ने वापिस पठान पर हमले किए और लिखा कि हम उन 15 करोड़ मुसलमानों में नहीं हैं जो दूसरे संप्रदाय से लड़ने की बात करते हैं  बता दें कि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM के नेता और पूर्व विधायक वारिस पठान ने कहा था, ‘हमने ईंट का जवाब पत्थर से देना सीख लिया है. मगर हमको इकट्ठा होकर चलना पड़ेगा.

आजादी लेनी पड़ेगी और जो चीज मांगने से नहीं मिलती है, उसको छीन लिया जाता है. हमको कहा जा रहा है कि हमने अपनी मां और बहनों को आगे भेज दिया है. हम कहते हैं कि अभी सिर्फ शेरनियां बाहर निकली हैं, तो आपके पसीने छूट गए. अगर हम सब साथ में आ गए, तो सोच लो क्या होगा. हम 15 करोड़ ही 100 करोड़ लोगों पर भारी हैं. यह बात याद रख लेना.’