इस विश्वविद्यालय के वीसी पर लगा है अश्लील चैट का आरोप, छात्र नेता की पोस्ट से खुला मामला

ये किसी विश्वविद्यालय के कुलपति से जुड़ा सबसे सनसनीखेज मामला है.  इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के इतिहास में ये अब तक का सबसे सनसनीखेज आरोप है जो किसी कुलपति पर लगा है.  हालाकि इन सारे मामले को कुलपति ने फर्जी बताया है.

दरअसल इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नेता ने अपनी सोशल साइट पर एक व्हाटसप चैट को पोस्ट किया है.  छात्रनेता का दावा है वीसी ने एक महिला से अश्लील बातें की हैं.  इस नेता का दावा है कि जिस नंबर से अश्लील बातें हुईं वो कुलपति का है.  हालांकि इस पूरे मुद्दे को विश्वविद्यालय के कुलपति ने नकार दिया है.  और इसे साजिश करार देते हुए कहा है कि इस मामले में वह कानूनी राय लेकर कानूनी प्रक्रिया से कार्रवाई होगी.

बता दें कि विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नेता अविनाश दुबे ने अपने फेसबुक पर एक अश्लील बातो वाला व्हाटसप चैट पोस्ट किया और नम्बर इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो रतन लाल हंग्लू का है.  जिससे वीसी ने एक महिला से अश्लील चैट किया गया है.  जो स्क्रीन शॉट वायरल किया गया है और चैट दिख रही है, उसमे महिला से अश्लील बातें साफ साफ पढ़ी जा सकती है.  साझा किये गये स्क्रीन शॉट में जो नंबर दिख रहा है.  उसमे कुलपति की डीपी भी दिखाई दे रही है.  साथ ही चैट के दौरान वीसी और उनकी पत्नी की भी फोटो साझा की गई है.

व्हाटसप चैटिंग का स्क्रीनशॉट वायरल होने के बाद पूरे कैम्पस में हंगामा खड़ा हो गया है. विश्वविद्यालय से जुड़े हर शख्स की जुबान पर इस स्क्रीन शॉट के ही चर्चे है.  उधर पोस्ट डालने वाले छात्र के समर्थक उनके साथ हो गए हैं.  वीसी के समर्थकों का दावा है कि ठीक वैसी ही चैट की तस्वीरें दूसरे नंबर से चैट वाली भी हैं.  यानी इन चैट्स को छात्र नेता ने बुरी नीयत से एडिट किया.  और उसमें कुलपति का नंबर फोटोशॉप के ज़रिए डाल दिया.

वही छात्र नेता ने दावा किया है, कि जिस महिला से चैटिंग की गई है. वह दिल्ली की रहने वाली है.  उसका इलाहाबाद से भी करीबी नाता है.  जिसको नौकरी दिलाने का कुलपति ने वादा किया था.  लेकिन कुलपति ने सारे मामले को फर्जी बताते हुए एक साजिश करार दिया है. कहा की एक लड़का है जिसका प्रवेश विवि में नही हुआ जिसके बाद वह यह सब फैला रहा है.  वायरल हुआ स्क्रीन शॉट कितना सही और इसमें कितनी साजिश है,यह तो जांच के बाद ही स्पष्ट हो पायेगा. बता दें की छात्रनेता एक राष्ट्रीय पार्टी से जुड़ा है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.