गिरफ्तार हो सकते हैं अर्नब गोस्वामी, गैर जमानती वारंट जारी

नेशनल टीवी की बिना गोले की तोप और पत्रकारिता के सारे नियम तोड़ देन वाले पत्रकार और बीजेपी समर्थक रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी और तीन अन्य लोगों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो गए हैं.

श्रीनगर की चीफ जुडिशियल मजिस्ट्रेट की अदालत ने शनिवार को गैरजमानती वारंट जारी किया है. मानहानि के एक केस में ये वारंट जारी हुए हैं. अगर अर्नब जेल गए तो कश्मीर में आतंकवादियों की जेल में रहना पड़ेगा. अर्नब गोस्वामी की अदा है कि वो अपने चैनल पर एक तरफा हमले शुरू कर देते हैं. ऐसा ही उन्होंने पीडीपी के नेता नईम अख्तर के साथ किया. नईम इस मामले में कोर्ट चले गए.

अदालत ने पीडीपी के वरिष्ठ नेता नईम अख्तर द्वारा दाखिल आपराधिक मानहानि के मामले में यह आदेश दिया है. अख्तर ने इस मामले में 16 नवंबर 2018 को कोर्ट के समक्ष एक याचिका दायर की थी. इस याचिका में अख्तर ने आरोप लगाया था कि अरनब गोस्वामी व अन्य लोगों ने उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के झूठे व निराधार आरोप लगाए हैं. अख्तर ने अरनब गोस्वामी औऱ अन्य लोगों पर उनके खिलाफ निंदनीय कंटेंट प्रसारित करने के भी आरोप लगाए थे.

बताया जाता है कि अदालत ने इससे पहले 27 दिसंबर को अरनब गोस्वामी के साथ ही रिपब्लिक टीवी में श्रीनगर की विशेष संवाददाता जीनत ज़िशान फ़ाज़िल, सीनियर एसोसिएट एडिटर आदित्य राज कौल और एंकर सकल भट्ट को कोर्ट के समक्ष पेश होने के आदेश दिए थे.

इस बारे में शनिवार को बचाव पक्ष के अधिवक्ता इरशाद अहमद ने कोर्ट को बताया कि पुलवामा में हुए आंतकी हमले के बाद कश्मीर घाटी के बिगड़े हालातों के मद्देनजर गोस्वामी, कौल और भट्ट निजी तौर पर पेश होकर समन का जवाब नहीं दे सकते हैं. इसके अलावा कुछ कारणों से फाज़िल का भी कोर्ट के सामने पेश होना मुश्किल है. उन्होंने आरोपियों को निजी तौर पर कोर्ट में पेश होने से छूट देने की मांग की थी.

सुनवाई के बाद चीफ जुडिशियल मजिस्ट्रेट की अदालत ने बचाव पक्ष की याचिका को खारिज करते हुए कहा कि आरोपियों को कोर्ट के सामने पेश होकर अपने सिक्योरिटी बॉन्ड जमा करवाने थे.

अदालत ने यह भी कहा, ‘रिकॉर्ड से पता चलता है कि इस दौरान आरोपी अपनी पत्रकारीय जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे थे. इसके अलावा घाटी में इन हालातों में भी पत्रकार लगातार रिपोर्टिंग कर रहे हैं. ऐसे में अर्नब गोस्वामी कैसे पत्रकार हुए जिन्हें घाटी में आने में डर लगता है. इसलिए बचाव पक्ष द्वारा अपनी याचिका में पेश किए गए कारण उचित प्रतीत नहीं होते हैं.’

इसके बाद अदालत ने अरनब गोस्वामी और तीन अन्य आरोपियों के खिलाफ गैरजमानता वारंट जारी करने के आदेश दिए. कोर्ट ने तीनों आरोपियों को 23 मार्च को कोर्ट में पेश करने के लिए संबंधित वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को भी आदेश जारी किए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.