वैशाली में गुस्साई भीड़ ने 15 मकान जलाए, कई लोग झुलसे, मॉब लिंचिंग से बड़ी वारदात

देश में बौराई भीड़ का अत्याचार धीरे धीरे हिंसा की सारी सीमाएँ पार करने लगा है. अब खबर बिहार के वैशाली से हैं. बिहार में एक बार फिर भीड़ का खौफनाक चेहरा देखने को मिला है. भीड़ के द्वारा जिस तरह से घटना को अंजाम दिया है. यह मॉब लिंचिंग के मामले को भी पीछे छोड़ दिया है. दरअसल हत्या के विरोध में वैशाली जिले में भीड़ ने भयावह घटना को अंजाम दिया है.

खबरों के मुताबिक, वैशाली के पातेपुर के आसामापुर गांव में रविवार को उस समय अफरातफरी मच गयी है, जब गुस्से से भरी भीड़ एक साथ 15 घरों को फूंक दिया. गांव में इस घटना के बाद तनाव का माहौल बना हुआ है.

बताया जाता है कि पातेपुर के आसाम गांव में नागेंद्र पासवान एक व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्‍या कर दी गई थी. पातेपुर थाने राघोपुर नरसंडा गांव के मूर्तजापुर डुमरी गांव में बच्चों के बीच विवाद हो गया था. मामला इतना बढ़ गया कि वह हिंसक रूप ले लिया. इसी क्रम में एक पक्ष ने मूर्तजापुर डुमरी निवासी नागेंद्र पासवान की हत्या कर दी. लाठी-डंडे से पीट कर घटना को अंजाम दिया गया.

इसी के विरोध में रविवार को लोगों का गुस्सा उबल पड़ा. गुस्साए लोगों ने आरोपियों गांव में आग लगा दी. बताया जाता है कि इसमें 15 घर जलकर खाक हो गये. लोगों की मानें तो घटना में कई लोग झुलस गये हैं. वहीं मामले की जानकारी मिलते ही कई थानों की पुलिस वहां पहुंच गयी है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.