आपसी रंजिश में हुई थी स्मृति ईरानी के करीबी नेता की हत्या, पुलिस जांच में खुलासा

अमेठी में स्मृति ईरानी (Smriti Irani) के करीबी BJP कार्यकर्ता और पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह बरौलिया हत्याकांड में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है. यूपी पुलिस ने मामले में 3 संदिग्ध आरोपियों को गिरफ्तार किया है. उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि अमेठी में पूर्व ग्राम प्रधान की हत्या मामले में हमले तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है और 2 की तलाश जारी है, जिन्हें जल्द ही दबोच लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि अभी तक मिले साक्ष्य से आपसी रंजिश हत्या की वजह लग रही है.

मालूम हो कि स्मृति ईरानी बरौलिया गांव पहुंचीं थीं और सुरेंद्र सिंह की अंतिम यात्रा में शामिल हुईं थीं. स्मृति ने सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्प चढाये. इस दौरान वह काफी भावुक हो गईं. स्मृति ने सिंह के पार्थिव शरीर को कंधा भी दिया था. इससे पहले वह सिंह के परिवार वालों से मिलीं और उन्हें ढाढस बंधाया. इतना ही नहीं स्मृति इरानी ने इसके लिए राहुल गांधी पर भी निशाना साधा था.

बता दें कि मृतक सुरेंद्र सिंह बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान थे, जिन्होंने अमेठी में BJP का जमकर प्रचार किया था, वो स्मृति ईरानी के साथ मंच पर भी नजर आते थे. बताया जा रहा है कि स्मृति ईरानी की जीत के बाद उनके गांव में जश्न मनाया गया था. हत्या शनिवार देर रात उनके घर पर सोते वक्त की गई थी.

उधर, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता की मौत अत्यंत दुखद है. वह परिश्रमी कार्यकर्ता थे. भले ही हत्यारे जमीन के भीतर क्यों ना छिपे हों, उन्हें पकड़ लिया जाएगा. इस घटना से पूरी अमेठी दुखी है. उत्तर प्रदेश की कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि लोकतंत्र में हिंसा की कोई गुंजाइश नहीं है. हत्यारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए. उत्तर प्रदेश के राज्य मंत्री मोहसिन रजा भी पूर्व प्रधान के घर पहुंच गए हैं.

उन्होंने कहा कि हत्यारों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी. रजा ने बताया कि सिंह की हत्या उस समय हुई, जब वह सो रहे थे. यह अत्यंत जघन्य घटना है. रजा अमेठी के प्रभारी मंत्री भी हैं.