विकासदुबे के साथ छत पर गोली चला रहा राइट हैंड मारा गया

खबर सब तक पहुंचाएं

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की जान लेने वाले विकास दुबे और उसके गुर्गों की तलाश तेज हो गई है. पुलिस ने बुधवार सुबह विकास दुबे के दाहिना हाथ माने जाने वाले अमर दुबे को मार गिराया गया है. हमीरपुर के मौदाहा में पुलिस और अमर दुबे के बीच एनकाउंटर हुआ, जिसमें पुलिस ने अमर दुबे को ढेर कर दिया. पुलिस का दावा है कि अमर दुबे दो जुलाई की रात मुठभेड़ में शामिल था.अमर दुबे की शादी मुठभेड़ से तीन दिन पहले शादी 29 जून हुई थी.

कानपुर में पुलिसवालों की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी विकास दुबे के गुर्गों में अमर दुबे सबसे करीबी था. इस हत्याकांड के वांछित अभियुक्तों के वायरल पोस्टर में अमर दुबे का नाम पहले नंबर पर था. एसटीएफ और हमीरपुर पुलिस ने बुधवार सुबह उसका एनकाउंटर कर दिया.

हमीरपुर के एसपी श्लोक कुमार का कहना है कि अमर दुबे की सूचना पर पुलिस टीम ने घेराबंदी की. इस दौरान अमर ने फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी एनकाउंटर में वह मार गिराया गया. उसके पास से एक ऑटोमेटिक हथियार और बैग मिला है. इस एनकाउंटर में एसओ और एसटीएफ के एक कॉन्स्टेबल को गोली लगी है.

ये भी पढ़ें :  चारपाई से बांधकर 6 लोगों ने बारी-बारी से बार-बार रेप किया, पति के पास देखते रहने के अलावा कोई चारा न था

उधर, विकास दुबे की तलाश तेज हो गई है. विकास दुबे के फरीदाबाद के एक गेस्ट हाउस में होने की खबर आई, लेकिन पुलिस को वहां भी निराशा हाथ लगी. सूत्र बताते हैं कि यूपी पुलिस की नाकामी से सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं. इसी बीच कानपुर के चौबेपुर थाने के सभी 68 पुलिसवालों को लाइनहाजिर किया गया है.

कुछ देर गेस्टहाउस में तलाशी के बाद पुलिसवाले निकल गए, लेकिन चश्मदीदों की मानें तो गेस्टहाउस से फायरिंग की आवाजें भी सुनाई दी. खबर है कि पुलिस ने यहां विकास दुबे के एक साथी को हथियारों के साथ पकड़ा है. इसके साथ ही पुलिस को सीसीटीवी फुटेज मिला है, जिसमें दिख रहे शख्स के विकास दुबे होने का दावा किया जा रहा है.

गैंगस्टर विकास दुबे को पकड़ने के लिए यूपी पुलिस ने 50 से ज्यादा टीमें लगा रखी हैं, लेकिन अभी तक नतीजा शून्य है. सूत्र बताते हैं कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अबतक विकास दुबे की गिरफ्तारी ना होने की वजह से नाराज हैं. सीएम की नाराजगी डीजीपी, पुलिस के आला अधिकारियों और गृह विभाग के अधिकारियों पर है.

ये भी पढ़ें :  दिल्ली बम धमाके के तीस आरोपियों को अदालत ने छोड़ा, कहा- पुलिस ने किसी को भी उठा लिया

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विकास दुबे की गिरफ्तारी को लेकर चल रही छापामारी पर एक-एक अपडेट खुद ले रहे हैं. उत्तर प्रदेश की पुलिस वो हर कोना तलाश रही है, जहां विकास दुबे के सुराग मिल सकते हैं. एसटीएफ ने लखनऊ स्थित विकास दुबे के घर पर भी छापा मारा और घर के भीतर रखे दस्तावेजों को खंगाला.

इस बीच पुलिस ने कानपुर से विकास दुबे के करीबी जय वाजपेयी को हिरासत में ले लिया. कहते हैं जय, विकास दुबे के फाइनेंस का काम देखा करता था. उधर बिकरु गांव में विकास दुबे के घर पर लगातार खोजबीन जारी है. पुलिस ने यहां से विस्फोटक, कारतूस और फर्जी आईडी कार्ड बरामद किए हैं.


खबर सब तक पहुंचाएं