गुस्साई जनता का आर्मी ने दिया साथ,राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री गिरफ्तार

भारत जैसे देश में लोग हर हाल में जी लेते हैं लेकिन दुनिया के बाकी देशों में ऐसा नहीं है. पश्चिम अफ्रीक देश माली में इस्तीफा देने की मांग कर रहे लोगों के साथ सेना मिल गई और तख्ता पलट ही कर दिया. माली के राष्ट्रपति इब्राहिम बाउबकर कीता और प्रधानमंत्री बाउबो सिसे को जनता और सैनिकों ने बंधक बना लिया.

इसके बाद राष्ट्र पति इब्राहिम बाउबकर कीता ने अपने पद से हटने का ऐलान कर दिया. राष्ट्रमपति के पद से हटने की मांग को लेकर देश में कई महीने से प्रदर्शन हो रहे थे. इसके बाद विद्रोही सैनिकों ने आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने जानकारी दी है कि बंदूक के दम पर हिरासत में लिए जाने के बाद माली के राष्ट्रपति ने इस्तीफा देते हुए संसद भंग करने की घोषणा कर दी है. देश में इससे पहले 2012 में तख्तापलट हुआ था .

विद्रोही सैनिकों ने मंगलवार को राष्ट्रपति के आवास को घेर लिया और तख्तापलट की संभावित कोशिश के तहत हवा में गोलीबारी करते हुए उन्हें और प्रधानमंत्री को बंधक बना लिया. बमाको की सड़कों पर आर्मी खुलेआम हथियार लेकर घूमते भी दिखे. तस्वीरों से और स्पष्ट हो गया है कि राजधानी में उनका नियंत्रण हो गया है. माली का सरकारी टीवी चैनल (ortm mali) भी बंद हो गया है.

ये भी पढ़ें :  पब्लिक ने सिंधिया को दिखाए काले झंडे, पत्थर भी फेंके

एक क्षेत्रीय अधिकारी ने इस बात की पुष्टि की है कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को मंगलवार शाम बंधक बना लिया गया. माली में राजनीतिक संकट अचानक से बढ़ गया है, जहां संयुक्त राष्ट्र और पूर्व उपनिवेश फ्रांस ने देश में स्थिरता का माहौल बनाने के लिए 7 साल कोशिश की है.

सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों ने सैनिकों के कार्यों की सराहना की है. कुछ ने एक इमारत में आग लगा दी, जो माली के न्याय मंत्री से संबंधित है. प्रधानमंत्री सिसे ने सैनिकों से हथियार डालने का आग्रह किया है और उनसे सबसे पहले देश के हित में सोचने की अपील की. उन्होंने कहा, ‘ऐसी कोई समस्या नहीं है जिसका समाधान बातचीत के जरिए नहीं किया जा सकता है.’

इससे पहले दिन में सशस्त्र लोगों ने देश के वित्त मंत्री अब्दुलाय दफे समेत कई वरिष्ठ अधिकारियों को हिरासत में ले लिया था और इसके बाद सरकारी कर्मी अपने कार्यालयों से भाग गए. माली के आंतरिक सुरक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, ‘अधिकारियों को गिरफ्तार किया जा रहा है, इसे लेकर अभी संशय की स्थिति है.’

ये भी पढ़ें :  बीजेपी के लिए दिल्ली से बुरी खबर, डूसू चुनाव में एनएसयूआई की वापसी, ABVP बचा पाई सिर्फ दो सीट

माली के राष्ट्रपति को लोकतांत्रिक रूप से चुना गया था और उन्हें पूर्व उपनिवेशवादी फ्रांस और अन्य पश्चिमी देशों से व्यापक समर्थन प्राप्त है. इस बीच, अमेरिका ने कहा है कि वह माली में बिगड़ती स्थिति को लेकर चिंतित है. अमेरिकी विदेश विभाग के विशेष दूत जे. पीटर फाम ने ट्वीट किया, ‘अमेरिका सरकार सभी असंवैधानिक परिवर्तनों के विरोध में है चाहे वह सड़कों पर हो या सुरक्षा बलों द्वारा.’

मई से ही राष्ट्रपति को जनता के विरोध का सामना करना पड़ रहा है. उस समय देश की सर्वोच्च अदालत ने विवादित संसदीय चुनावों के नतीजों को पलट दिया था. इससे पहले 2012 में भी देश की सेना ने सफलतापूर्वक तख्तापलट कर दिया था. अमेरिका के साथ ही रूस, फ्रांस समेत कई देश माली के हालात पर नजर बनाए हुए हैं.