केन्द्र के बाद अब योगी का भी कर्मचारियों और पेंशनर्स को झटका

कोरोना वायरस महामारी और लगातार लॉकडाउन के मद्देनजर उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. प्रदेश सरकार ने भी केंद्र की तरह अपने कर्मियों का जनवरी से प्रस्तावित महंगाई भत्ता व पेंशनरों का महंगाई राहत रोकने का एलान किया है. 

इसके साथ ही सरकार ने छह तरह के भत्ते भी स्थगित कर दिए हैं. यूपी सरकार ने महंगाई भत्ते (डीए) पर भी रोक लगा दी है. अब कर्मचारियों और पेंशनरों को डीए भी नहीं मिलेगा. एक जनवरी 2020 से जून 2021 तक डीए बंद रहेगा. इसके अलावा सचिवालय भत्ता, पुलिस भत्ता भी बंद कर दिया गया है. 

इससे यूपी में 16 लाख से ज्यादा कर्मचारी प्रभावित होंगे. वहीं 11.82 लाख पेंशनरों को झटका लगा है. आर्थिक तंगी का सामना कर रही सरकार को कर्मचारियों के महंगाई भत्ते व महंगाई राहत पर फैसला लेने से करीब 10 हजार करोड़ रुपये की बचत हो सकती है. 

वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम 11 के साथ समीक्षा बैठक की. बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से कहा कि संक्रमण रोकने के लिए हर जिले में फोकस टीम बनाइए. किसी भी सूरत में वायरस के संक्रमण का प्रसार नहीं होना चाहिए. उन्होंने निर्देशित किया कि कोरोना योद्धाओं के लिए पीपीई किट्स N-95 मास्क की उपलब्धता सुनिश्चित करें.