4 फाइटर जेट और 300 लैंड क्रूजर की सुरक्षा के बीच पाकिस्तान में फिदायीन हमला,

पुलवामा आतंकी हमले के तीन दिन बाद बलूचिस्तान के पास पाकिस्तानी सेना के काफिले पर रविवार को आत्मघाती हमला हुआ, जिसमें कम से कम नौ सैन्यकर्मियों की मौत हो गई और 11 घायल हो गए. ये हमला उस वक्त हुआ जब पाकिस्तान में साऊदी प्रिंस बिन सलमान पाकिस्तान की यात्रा पर आए हुए हैं

द बलूचिस्तान पोस्ट की रिपोर्ट के अनुसार, बलूचिस्तान लिबरेशन फ्रंट और बलूच रिपब्लिकन गार्ड्स ने तुरबत और पंजगुर के बीच हुए इस हमले की जिम्मेदारी ली है. यह हमला सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के पाकिस्तान पहुंचने से कुछ घंटे पहले ही हुआ है.

जम्मू-कश्मीर में आत्मघाती हमले के बाद उप-महाद्वीप में तनाव बढ़ गया है, जहां 20 वर्षीय एक युवक ने विस्फोटक से भरी एसयूवी को सीआरपीएफ के काफिले में घुसा दिया. इस आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. पुलवामा में हुई आतंकवादी घटना के बाद ईरान और भारत ने साथ मिलकर पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा संदेश जारी किया था.

सुषमा स्वराज अपने तीन देशों के दौरे पर बुल्गारिया जाते वक्त शनिवार को थोड़ी देर के लिए ईरान में रुकी थीं, जहां उन्होंने ईरान के उप विदेश मंत्री सैयद अब्बास अरागची से मुलाकात की थी. ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के कमांडर मेजर जनरल मोहम्मद अली जाफरी ने जिहादी ग्रुप जैश-अल-अद्ल की ओर इशारा करते हुए पाकिस्तानी सेना और आईएसआई पर आरोप लगाया कि ‘शरण देना और चुप रहना’ आतंकवादियों का समर्थन करने जैसा है.

ये भी पढ़ें :  चंदू के पाकिस्तान की कैद होने की खबर वो बरदाश्त नहीं कर पाई, त्याग दिए प्राण

आत्मघाती कार हमले में रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के 27 सैनिकों की मौत से भड़के ईरान ने पाकिस्तान के राजदूत को तलब किया है. ईरान ने इससे पहले चेतावनी देते हुए कहा था कि उसे आतंकियों के संरक्षण के लिए ‘भारी कीमत’ चुकानी पड़ेगी. ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने पाकिस्तान पर इस आत्मघाती बम हमले के साजिशकर्ताओं को समर्थन देने का आरोप लगाया है.

बता दें कि दक्षिण पूर्वी ईरान में बुधवार को रेवोल्यूशनरी गार्ड्स की बस पर आत्मघाती कार हमले में 27 सैनिकों की मौत हो गई थी. यह हमला ऐसे समय में हुआ है जब सैनिक सीमा पर गश्ती अभियान से लौट रहे थे.+ सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान दो दिनों के पाकिस्तान दौरे पर हैं. वे रविवार रात को पाकिस्तान के इस्लामाबाद पहुंचे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया. इस दौरान खुद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान उनकी अगुवाई करते दिखे. इमरान खान ने सलमान को गले लगाकर स्वागत किया. इतना ही नहीं, वह खुद कार ड्राइव कर सलमान के साथ एयरबेस से बाहर निकले और उन्हें पीएम हाउस लेकर गए.

ये भी पढ़ें :  इस 'मर्द' ने कहा कि उसका डंडा राज ठाकरे का इंतज़ार कर रहा है. हिम्मत है तो सामने आए

इस दौरान सऊदी अरब और पाकिस्तान के बीच 20 बिलियन डॉलर तक के निवेश सौदों पर हस्ताक्षर हुए. दोनों देशों के बीच सात समझौतों और समझौता ज्ञापनों (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए. सऊदी अरब के इस बड़े निवेश समझौते से पाकिस्तान की कमजोर अर्थव्यवस्था को राहत मिलने की उम्मीद है.

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की सुरक्षा में करीब 123 सऊदी अरब रॉयल गार्ड्स तैनात किए गए हैं, जबकि पाकिस्तान सरकार ने भी सुरक्षा के कड़े इंतेजाम किए हैं. जब वे अपने विशेष विमान से इस्लामाबाद आ रहे थे, उस वक्त चार पाकिस्तानी फाइटर जेट्स बोइंग 787 उनके जहाज को सुरक्षा के घेरे में लेकर चले रहे थे.

प्रिंस की निजी सुरक्षा तो उनके साथ है ही, लेकिन पाकिस्तान सरकार ने भी उनकी सुरक्षा के कड़े इंतेजाम किए हैं. इस्लामाबाद के आठ टॉप लेवल के होटलों को पूरा बुक कर लिया गया है. यहां सऊदी रॉयल गार्ड्स और पाक आर्मी को तैनात किया गया है. पाकिस्तान सरकार ने लगभग 300 लैंड क्रूजर गाड़ियों को सऊदी डेलीगेशन के लिए लगाया है. वहीं प्रिंस सलमान के लिए पीएम हाउस में एक जिम भी तैयार किया गया है.

ये भी पढ़ें :  मोदी ने भक्तों की युद्ध की हसरतों पर पानी फेरा, पाकिस्तानियों से कहा- लड़ना है तो अशिक्षा और गरीबी से लड़ो

सऊदी अरब ने हाल के महीनों में पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए लगभग 6 अरब डॉलर का लोन देकर उसके घटते विदेशी मुद्रा भंडार को संभाला था.

पाकिस्तान के दो दिवसीय दौरे के बाद सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान भारत आएंगे. वह पहली बार भारत का दौरा करेंगे. हालांकि, सऊदी अरब भारत का प्रमुख ऊर्जा सुरक्षा साझेदार है. ऐसी अटकलें हैं कि उनके भारत दौरे के दौरान ऊर्जा सुरक्षा और निवेश पर चर्चा हो सकती है.

पुलवामा में आत्मघाती आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पाकिस्तान के दौरे पर जा रहे हैं. भारत ने इस हमले का जिम्मेदार पाकिस्तान को ठहराया है और पाकिस्तान को सबक सिखाने का भी निर्णय लिया है. हालांकि प्रिंस सलमान ने खुद को इससे अलग रखा है.

पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए आतंकी हमले के अगले दिन यानी शुक्रवार को सऊदी अरब ने बयान देते हुए इस हमले की निंदा की थी. साथ ही भारत के साथ आतंक के खिलाफ लड़ाई की बात कही थी. हालांकि, अब वह पाकिस्तान के दौरे पर हैं, जिसे भारत इस हमले का जिम्मेदार ठहरा रहा है.

Spread the love

Leave a Reply