अमेरिका पर बरसे इमरान, भारत का चीन के खिलाफ हो रहा इस्तेमाल

एक वक्त था जबतक अमेरिका की तारीफ न कर लें पाकिस्तानी नताओं का खाना हजम नहीं होता था. लेकिन जब से अमेरिका ने भारत से नज़दीकी बढ़ाई है पाकिस्तान के तेवर तल्ख हो गए हैं. अब पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने बिना नाम लिए अमेरिका पर निशाना साधा है. उन्होंेने कहा कि पश्चिमी देश चीन के खिलाफ भारत का इस्तेपमाल कर रहे हैं. साथ ही भारत को चीन के खिलाफ मजबूत भी कर रहे हैं.

सऊदी अरब से झटका खाए पाकिस्ताेनी प्रधानमंत्री ने अपने ‘आयरन ब्रदर’ चीन की शान में उसकी जमकर तारीफ की. उन्होंाने कहा कि पाकिस्तातन और चीन लंबे समय से मित्र हैं और हमारा भविष्य  चीन के साथ जुड़ा हुआ है. इमरान ने एक पाकिस्ताोनी टीवी चैनल के साथ बातचीत में यह भी ऐलान किया कि चीन के राष्ट्र पति शी जिनपिंग इस साल दिसंबर तक पाकिस्तासन की यात्रा पर आने वाले हैं.

ये भी पढ़ें :  अयोध्या में 21 फरवरी को शुरू होगा मंदिर निर्माण, मोदी से नाराज़ धर्म संसद में फैसला

पाकिस्तािनी पीएम ने कहा, ‘यह स्पनष्टं हो जाना चाहिए कि हमारा भविष्यम चीन के साथ जुड़ा हुआ है जो हमारे हर अच्छे् और बुरे में खड़ा हुआ है.’ उन्होंहने कहा कि चीन और पाकिस्ताषन दोनों ही एक-दूसरे के महत्व  को मान्यमता देते हैं और संबंधों को मजबूत करने में जुटे हुए हैं.

पाकिस्तांनी पीएम ने भारत-चीन तनाव पर बिना नाम लिए अमेरिका पर निशाना साधा. उन्होंनने कहा क‍ि यह दुर्भाग्यबपूर्ण है कि पश्चिमी देश भारत का इस्तेनमाल चीन के खिलाफ कर रहे हैं. सऊदी अरब के साथ चल रहे तनाव पर इमरान खान ने सफाई दी. उन्होंाने कहा कि पाकिस्तािन की भूमिका मुस्लिम दुनिया को बांटने की नहीं बल्कि उसे एकजुट करने की है. कश्मीनर पर साथ नहीं देने पर सऊदी अरब और ओआईसी के साथ नहीं देने पर इमरान खान ने कहा कि सऊदी अरब की अपनी विदेश नीति है और हमारी अपनी.

ये भी पढ़ें :  कश्मीर में युद्ध की झूठी खबरें क्यों दिखा रहा है मीडिया ?

उन्हों ने कहा कि संकट के समय में सऊदी अरब पाकिस्तांन के साथ खड़ा रहा है. उन्होंइने अमेरिका पर निशाना साधते हुए कहा कि वॉशिंगटन ने पहले युद्ध छेड़ने के लिए पाकिस्तानन का इस्तेरमाल किया अब हम अफगानिस्तानन में शांति प्रक्रिया में भागीदार हैं. तुर्की के सुर में सुर मिलाते हुए पाकिस्तािनी प्रधानमंत्री ने यह भी ऐलान किया कि उनका देश फलस्तीरनी लोगों की समस्या. का समाधान हुए बिना इजरायल को कभी मान्यकता नहीं देगा.